DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दहेज के लिए जिंदा जलाने के प्रयास का आरोप

दहेज के लिए मारपीट कर घर से निकाली गयी महिला को मित्र पुलिस का सहारा नहीं मिला। उसने ससुरालियों पर मिट्टी तेल छिड़क कर उसे जिंदा जलाने का प्रयास किए जाने का भी आरोप लगाया है। पुलिस ने उसे महिला हैल्प लाइन जाने की सलाह दी है। अब वह अपनी दूधमुंही बच्ची के साथ न्याय पाने के लिए दर दर भटकने को मजबूर है।

मंगलवार की दोपहर लहूलुहान स्थिति में कोतवाली पहुंचे रामपुर के बिलासपुर निवासी कस्तूरीलाल शर्मा की पुत्री अमृता शर्मा ने बताया कि उसका विवाह 30 अप्रैल 2005 को काशीपुर के मोहल्ला काजीबाग में हुआ था। ससुराली दहेज को लेकर नाखुश थे। कुछ दिनों बाद से ही उन्होंने उसका उत्पीड़न शुरू कर दिया। महिला ने आरोप लगाया है कि छह माह पूर्व मायके से दो लाख रुपये लाने की मांग करते हुए उसकी दो माह की दूधमुंही बच्चाी को उसकी गोद से छीन ससुराल से निकाल दिया गया था। उस समय पुलिस व कुछ नागरिकों के सहयोग से सुलह समझौता हो गया था।


अमृता ने बताया कि ससुरालियों ने उसका उत्पीड़न अब भी बंद नहीं किया है। सोमवार की अपराह्न् ससुरालियों ने उस पर मिट्टी तेल छिड़क कर जिंदा जलाने का प्रयास किया। ससुराली जब इसमें सफल नहीं हो पाए तो उसे मारपीट कर लहूलुहान कर दिया। उसने किसी तरह अपनी व बच्ची की जान बचाई। मंगलवार को वह बच्ची को पड़ोसियों को सौंप कर किसी तरह कोतवाली पहुंची है। पुलिस ने महिला की तहरीर नहीं ली और उसे महिला हैल्प लाइन का रास्ता दिखा दिया। महिला ने राजकीय चिकित्सालय में मेडिकल कराया है। बताया जाता है कि महिला का पति एक पेपर मिल में सुपरवाइजर है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दहेज के लिए जिंदा जलाने के प्रयास का आरोप