DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिलिका झील में प्रवासी पक्षियों का आना शुरू

चिलिका झील में प्रवासी पक्षियों का आना शुरू

सर्दी के दस्तक देने के साथ उडीसा की विश्व प्रसिद्ध चिलिका झील में प्रवासी पक्षियों का आना शुरू हो गया है। यहां मुख्य रूप से साइबेरिया के याकुत क्षेत्र से पक्षी आते हैं। चिलिका वन्यजीव विभाग ने इन 'मेहमानों' को तस्करों से बचाने के लिए स्थानीय गावों में कई शिविर लगाने शुरू कर दिए हैं।

चिलिका प्रभागीय वन्य अधिकारी विमल प्रसन्ना आचार्य ने बताया कि चिलिका में 1००० प्रवासी पक्षी आ चुके हैं। सोमवार को हमने कई नार्दन पिंटेल्स और फ्लामिंगो पक्षियों को देखा। पक्षियों को तस्करों से बचाने के लिए हमने गावों में 12 शिविर लगाए हैं। आने वाले दिनों में आठ शिविर और लगाए जाएंगे।

राजधानी भुवनेश्वर से 1०० किलोमीटर पूर्व में स्थित चिलिका झील का क्षेत्रफल 1००० वर्ग किलोमीटर है। यह पुरी, खोरधा और गंजम जिलों के समुद्रतटीय इलाके में फैली हुई है।

सर्दियों के दौरान चिलिका झील में 165 प्रजातियों के पक्षियों को अटखेलियां करते देखा जा सकता है। इनमें से 93 प्रवासी और 72 स्थानीय प्रजातियां होती हैं। हर साल सर्दियों में यहां 5००,०००-6००,००० पक्षी आते हैं और इन पक्षियों को देखने का यह सबसे अच्छा वक्त होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चिलिका झील में प्रवासी पक्षियों का आना शुरू