DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अधिकारियों के दौरे के बावजूद नहीं हटा कूड़ा

दिवाली के बाद निगम ने कूड़ा हटवाना शुरू किया है, क्योंकि पहले कूड़ा पूरी तरह हटाया नहीं जा सका था। शिवपुरी समेत शहर के बहुत सारे कूड़ा प्वांइट पर दिवाली के दिन भी कूड़ा मौजूद रहा। ऐसा तब हुआ, जबकि अधिकारियों ने स्वयं दिवाली से पहले शहर का दौरा कर कूड़े के ढ़ेर का मुआयना किया था। बावजूद इसके गंदगी के बीच लोगों ने दिवाली मनाई।


शहर में लोग कूड़ा एक जगह फेंक सके, इसकी व्यवस्था नहीं है। कहीं भी कूड़ा डालने के लिए कोई पक्की जगह नहीं है। कूड़ा लिफ्टिंग भी एक बड़ी समस्या है। नगर निगम ने 10 ट्रैक्टर इस काम के लिए हायर किये हैं, जबकि 7 ट्रैक्टर निगम के तथा दो डंपर, दो जेसीबी और दो लिफ्ट कंटेनर गाड़ियों के सहारे शहर की पूरी आबादी का कूड़ा डंप किया जाता है। डंपिंग के लिए फरीदाबाद रोड की अरावली पहाड़ियों वाली जगह का इस्तेमाल किया जाता है। यहां आस-पास की कॉलोनियों में रहने वाले लोगों को शहर भर के कूड़े की गंध झेलनी पड़ रही है। पिछले दिनों इसकी शिकायत भी निवासियों ने की थी। निगम में कूड़ा निष्पादन के लिए लगी गाड़ियां, ठेकेदारों की हैं। जिस जगह कूड़ा डाला जाना है, वहां से हटकर कूड़ा डाला जा रहा था। आस-पास के अपार्टमेंट के लोग इससे मुश्किल में पड़ रहे हैं। हालांकि निगम के अधिकारियों के अनुसार जल्द ही यहां कूड़े की डंपिंग बंद होने वाली है। यह जगह शहर से लगभग 10-12 किमी की दूरी पर है।


दूसरी जगह बंधवाड़ी में कूड़ा डंपिंग होनी है। यह शहर से 20-22 किमी दूर होगा। ऐसे में कुछेक गाड़ियों के सहारे शहर के कूड़े को फेंकना निगम के लिए और ज्यादा मुश्किल हो जाएगा। फिलहाल जो व्यवस्था है, उसमें शहर खांडसा रोड से लेकर शिवपुरी तक खुले में कूड़ा जमा किया जा रहा है। यह व्यवस्था गंदगी और बीमारियों को न्योता देती नजर आती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अधिकारियों के दौरे के बावजूद नहीं हटा कूड़ा