DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न हत्यारे का पता, न ही हत्या का कारण

दीपावली की पूर्व संध्या पर सेक्टर 99 में हुई ट्रिपल मर्डर में हत्यारे का पता लगाने की बात तो दूर पुलिस हत्या का कारण तक नहीं ढूंढ़ पाई है। घटना के तीन दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं। मौका-ए-वारदात से जो मोबाइल बरामद हुआ था वह मृतक दंपत्ति की बेटी पिंकी का ही निकला। पिंकी ने उसे सात सौ रुपए में पुराना सेट खरीदा था।

ज्ञात हो कि गुरुवार की देररात सेक्टर 99, हाजीपुर गांव के जंगल में झुग्गी बनाकर रहने वाले बंजारा दम्पत्ति विरजू, पत्नी इंद्रा और उसकी गोंद ली गई बेटी पिंकी को हत्यारों ने लोहे के औजारों से पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। हत्यारों ने विरजू और उसकी पत्नी की लाश को झुग्गी से करीब 50 मीटर दूर घसीटकर ले गये थे। मौके पर पहुंची कोतवाली सेक्टर 39 पुलिस ने आला कत्ल तो बरामद कर लिया है लेकिन घटना के तीन दिन बाद तक न तो हत्यारे का पता लगा पाई है और न ही हत्या का कारण। पुलिस ट्रिपल मर्डर की गुत्थी सुलझाने में उलझ गई है। लेकिन कोई ठोस सुराग हाथ लगता नजर नहीं आ रहा है। घटनास्थल के पास में बन रहे एक कंस्ट्रक्शन कंपनी में कार्यरत दो गार्ड और पड़ोस की झुग्गी में रहने वाले युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ जा रही है। कोतवाली प्रभारी अनिल समानिया का कहना है कि मौके से जो मोबाइल बरामद हुआ है मृतका पिंकी ने किसी से खरीदा था। मोबाइल के कॉल डिटेल देखी जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:न हत्यारे का पता, न ही हत्या का कारण