DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मलेरिया को लेकर विभाग गंभीर

मलेरिया के बढ़ते मरीजों ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की नींद हराम कर दी हैं। अगस्त और सितंबर में 50 मरीजों की पहचान हो चुकी है। हालात पर काबू पाने के  लिए पंचकूला में वरिष्ठ अधिकारियों की एक बैठक हुई। इनमें मलेरिया के बढ़ते कारणों पर गंभीरता से चर्चा हुई। इसके रोकथाम के लिए रणनीति भी बनाई गई।
मलेरिया विभाग के डायरेक्टर डॉ. सतवीर चौधरी, स्वास्थ्य विभाग के डायरेक्टर डॉ. नरवीर सिंह व सभी जिले के मलेरिया अधिकारियों ने बैठक में हिस्सा लिया। इसमें मलेरिया व डेंगू के मच्छर के लारवा पर विशेष ध्यान देने की हिदायत दी गई। अधिकारियों का कहना था कि प्राथमिक चरण में लारवा की पहचान कर बीमारी पर अंकुश लगाया जा सकता है। इस दौरान ब्लीडिंग चेकर्स और काम की समीक्षा पर विशेष ध्यान देने की हिदायत दी गई। इसके साथ ही जिले के प्रोजेक्ट अधिकारी को औचक जांच के निर्देश दिए गए। 

 
गुड़गांव में डेंगू व मलेरिया के बढ़ रहे मरीजों की रिपोर्ट की समीक्षा की गई। वहां के मलेरिया अधिकारी डॉ. कृष्ण कुमार को जमकर फटकार लगाई गई। उन्हें रणनीति तैयार कर पंचकूला भेजने को कहा गया है। फरीदाबाद के मलेरिया अधिकारी डॉ. ओपी मेहता का कहना है कि यह रुटीन बैठक थी। इस फौगिंग और लारवा पर विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए गए हैं। इसके रोकथाम के लिए नई योजनाएं भी बनाई जाएगी।


स्वास्थ्य विभाग की नजरों में संवेदनशील क्षेत्र
सेक्टर-तीन, नौ, एनएच चार व पांच, जवाहर कालोनी, पर्वतीया कालेानी, सुंदर कालोनी, न्यू न्ांगला रोड, शिवदुर्गा कालोनी, विद्युत कालोनी, सराय ख्याजा, इंड्रस्ट्रीयल एरिया 31 बी आदि
             स्लाइड बने        कंफ्रम
वर्ष 2007   111845           217
वर्ष 2008   138439          193
वर्ष 2009   11082            66

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मलेरिया को लेकर विभाग गंभीर