DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजभवन में बगैर टेंडर के काम शुरू

बगैर टेंडर के राजभवन में फिर काम शुरू हो गया है। एक करोड़ से अधिक के अधूरे काम को भवन निर्माण विभाग अब सलाहकार टीपी सिन्हा के दबाव में विभागीय स्तर पर पूरा करा रहा है। जबकि राज्य के अन्य शीर्ष अधिकारियों-कर्मचारियों के यहां अधूरे पड़े कामों को ज्यों के त्यों छोड़ दिया गया है। दिलचस्प तो यह कि विभागीय काम कराने के लिए भी अब तक आवश्यक प्रक्रिया पूरी नहीं की गयी है।

बगैर टेंडर के ठेकेदारों से कराये गये सौ से अधिक काम के विवाद को बीच में ही छोड़ केवल राजभवन पर विशेष मेहरबानी से ठेकदारों में भारी रोष है। दीपावली के असवर पर करोड़ों रुपए लगाकर फंसे लगभग चार दजर्न ठेकेदारों के घरों में इस बार दीप नहीं दिल जल उठे हैं। विभागीय सूत्रों का कहना है कि पहले तो काम के बाद निकले टेंडर को रद्द कर दिया गया। उसके बाद काम की जांच के आदेश दिए गए। इस प्रकरण में बगैर टेंडर के काम करानेवाले प्रभारी कार्यपालक अभियंता घनश्याम अग्रवाल को निलंबित किया गया। जानकारों का कहना है कि जब काम कराने के लिए अग्रवाल दोषी थे तो फिर दबाव में काम करनेवाले ठेकेदारों को क्यों मंझधार में छोड़ दिया गया। कार्रवाई फिर उन आलाधिकारियों के विरुद्ध क्यों नहीं हुई जिन्होंने बगैर टेंडर के अपने आवास या कार्यालय में काम कराया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राजभवन में बगैर टेंडर के काम शुरू