DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिमागी शक्ति बढ़ानी है तो दें इंटरनेट की खुराक

दिमागी शक्ति बढ़ानी है तो दें इंटरनेट की खुराक

उम्र के साथ शिथिल होते दिमाग को टॉनिक देना है और डिमेंशिया को कोसों दूर रखना है तो फिर जमकर इंटरनेट का प्रयोग करें। एक अध्ययन में यह पाया गया है कि इंटरनेट के प्रयोग से बुजुर्गों की दिमागी शक्ति बढ़ जाती है और इससे समय के साथ कमजोर होते दिमाग को डिमेंशिया से होने वाले खतरे पर लगाम भी लगती है।

अंतरराष्ट्रीय शोधकर्ताओं के एक दल ने इस अध्ययन में पाया कि इंटरनेट दिमाग को पढ़ने से ज्यादा क्रियाशील बनाता है और इसका असर काफी लंबे समय तक रहता है।

द संडे टाइम्स की इस खबर में दल के अगुवा प्रो गैरी स्मॉल ने बताया कि हमने पाया कि बूढे़ लोगों में इंटरनेट का प्रयोग चाहे वह कम समय का भी क्यों न हो, उनके दिमाग को क्रियाशील बनाता है। उन्होंने कहा, सबसे चौंकाने वाली खोज यह थी कि इंटरनेट पर किया काम उस हद तक प्रभावी होता है, जितनी पढा़ई भी नहीं होती।

इस अध्ययन को अंजाम देने के लिए 55 से 76 साल के 24 लोगों के ब्रेन स्कैन का विश्लेषण किया गया। उनमें से आधे इंटरनेट का प्रयोग करते थे, जबकि बाकी नहीं। इस स्कैन के बाद उन्हें घर भेज दिया गया और इंटरनेट का इस्तेमाल करने को कहा गया।

हर दिन एक घंटा और पंद्रह दिन तक लगातार इंटरनेट के प्रयोग के बाद उनके दिमाग का दोबारा स्कैन किया गया। दोबारा हुए स्कैन से मालूम चला कि दिमाग का वह हिस्सा जो दष्टि, भाषा और याददाश्त का जिम्मा संभालता है वह ज्यादा क्रियाशील हो गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिमागी शक्ति बढ़ानी है तो दें इंटरनेट की खुराक