DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सात राज्यों में विधानसभा उपचुनाव के लिए जोर आजमाइश शुरू

सात राज्यों में विधानसभा उपचुनाव के लिए जोर आजमाइश शुरू

महाराष्ट्र, हरियाणा और अरूणाचल प्रदेश में विधानसभा चुनावों के बाद अब प्रमुख राजनीतिक दलों ने अपना जोर सात राज्यों में विधानसभा की 31 सीटों के उपचुनाव के लिए लगा दिया है जिसके लिए सात नवम्बर को मतदान होना है।

जिन राज्यों में विधानसभा की रिक्त सीटों के लिए उपचुनाव कराये जा रहे हैं उनमें उत्तर प्रदेश में 11, पश्चिम बंगाल में 10, असम, हिमाचल प्रदेश और राजस्थान में दो दो, केरल में तीन और छत्तीसगढ में एक सीट शामिल है।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा की पवैंया (सुरक्षित), लखनऊ पश्चिम, पडरौना, राड़ी, इसौली, झांसी, कोलासाला, हैंसर बाजार, ललितपुर, ईटावा और भरथना सीट के लिए उपचुनाव हो रहे हैं। कांग्रेस ने इन सभी सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। राज्य में हो रहे इन उपचुनावों में सत्तारूढ़ बहुजन समाज पार्टी के साथ साथ सपा और कांग्रेस तीनों की प्रतिष्ठा जुड़ी हुई है।

राज्य में विधानसभा की इन 11 सीटों के साथ ही लोकसभा की फिरोजाबाद सीट के लिए भी उपचुनाव हो रहा है। समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव के इस्तीफे के कारण फिरोजाबाद संसदीय सीट रिक्त हुई है। सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव के पुत्र अखिलेश यादव गत लोकसभा चुनाव में फिरोजाबाद के साथ ही कन्नौज सीट से भी चुने गये थे। उन्होंने बाद में फिरोजाबाद सीट से इस्तीफा दे दिया था।

सपा ने इस सीट से अखिलेश की पत्नी डिंपल यादव को मैदान में उतारा है, जबकि कांग्रेस की ओर से फिल्म अभिनेता राज बब्बर मैदान में हैं। वह पहले आगरा से समाजवादी पार्टी के सांसद थे। पिछले चुनाव में उन्होंने कांग्रेस का दामन थामा था।

राजस्थान में विधानसभा की सलुम्बर (सु) और टोडाभीम (सु) सीट के लिए उपचुनाव हो रहे हैं। किरोड़ीलाल मीणा और रघुवीर मीणा के लोकसभा के लिए चुन लिये जाने के कारण ये दोनों सीटें रिक्त हुई हैं। किरोड़ीलाल मीणा दौसा से निर्दलीय चुनाव जीते हैं जबकि रघुवीर सिंह मीणा कांग्रेस के नेता हैं और उदयपुर सुरक्षित सीट से चुने गये हैं।

उत्तर प्रदेश के बाद सबसे ज्यादा दस सीटों के लिए पश्चिम बंगाल में उपचुनाव होने हैं। राज्य विधानसभा की कलछीनी (सु), राजगंज (सु) सुजापुर, गोलपोखर, बानगांव, कोंटाई दक्षिण, इगरा, सेरामपोर, अलीपुर, बेलगाछी पूर्व सीट पर वाममोर्चा और तृणमूल कांग्रेस गठबंधन के बीच जोरदार मुकाबला होगा। तृणमूल कांग्रेस गठबंधन लोकसभा चुनावों में मिली सफलता को दोहराने में जुटी है।

पश्चिम बंगाल में कांग्रेस और सहयोगी तृणमूल कांग्रेस के बीच इन उपचुनावों के लिए सीटों के बंटवारे पर सहमति बन गई है। 10 सीटों में से तृणमूल कांग्रेस सात सीटों पर और कांग्रेस तीन सीटों पर चुनाव लड़ रही है। तृणमूल कांग्रेस जिन सात सीटों पर चुनाव लड़ रही है उनमें से पांच सीटों पर उसने पिछले चुनाव में कब्जा किया था, जबकि दो सीटों पर पार्टी दूसरे स्थान पर रही थी।

हिमाचल प्रदेश विधानसभा की राहरू और जवाली सीट के लिए उपचुनाव होगा। शिमला जिले की राहरू सीट कांग्रेस नेता एवं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के इस्तीफे के कारण रिक्त हुई है जबकि जवाली सीट भाजपा नेता राजन सुषांत के इस्तीफे से खाली हुई है। इन दोनों नेताओं ने लोकसभा के लिए चुन लिये जाने के कारण इस्तीफे दिये हैं।

छत्तीसगढ़ विधानसभा की वैशाली नगर सीट भाजपा विधायक सरोज पाण्डेय के दुर्ग निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा में चुन लिये जाने के कारण रिक्त हुई है।

इनके अलावा असम में सलमारा दक्षिण और धेकियाजुली और केरल में कन्नूर, एलप्पी और अर्नाकुलम सीट के लिए उपचुनाव होगा। विधानसभा की ज्यादातर सीटें संबंधित विधायकों के लोकसभा के लिए चुन लिये जाने के बाद इस्तीफे के कारण रिक्त हुई हैं।

14 अक्तूबर को अधिसूचना जारी होने के साथ ही इन उपचुनावों के लिए चुनावी प्रक्रिया शुरू हो गयी है। इन उपचुनावों के लिए नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 21 अक्तूबर है जबकि 24 अक्तूबर तक नाम वापस लिये जायेंगे। मतगणना 10 नवम्बर को होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सात राज्यों में विधानसभा उपचुनाव के लिए जोर आजमाइश शुरू