DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्रत-त्योहार (17 अक्तूबर, 2009)

दीपावली। काली पूजा। सायं प्रदोष वेला में देवालयों में दीपदान तत्पश्चात घर में दीपदान करें। प्रदोषकाल में लक्ष्मीन्द्र-कुबेरादि पूजा (प्रदोष काल सायं 5:27 से 7:57 बजे तक। महानिशीथ काल में महालक्ष्मी पूजा रात्रि 11:17 से 12.07 बजे तक। सूर्य दक्षिणायन। सूर्य दक्षिण गोल। शरद ऋतु। प्रात: 9 से 10:30 बजे तक राहु कालम।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:व्रत-त्योहार (17 अक्तूबर, 2009)