DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हुआ प्रमोशन तो डॉक्टरों में जागा इमोशन


अभी तक रूड होकर जो डॉक्टर मरीज को गंभीर हालत में भी छोड़कर फरार हो जाते थे प्रमोशन होते ही उन्होंने भावनात्मक तेवर का रुख इख्तियार किया है। बुधवार को ड्यूटी खत्म होने के बाद भी जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने मरीज देखे और उनका व्यवहार भी नर्म दिखा। इनमें नाइट ड्यूटी करने वाले भी शामिल हैं। तय है कि डॉक्टरों के प्रमोशन होने का फायदा कुछ दिन ही सही मगर मरीजों को जरूर मिलेगा।

दीपावली से पहले शासन की ओर से जारी किए गए प्रमोशन के शासनादेश को देखते ही जिला अस्पताल के डॉक्टरों के चेहरे पर खुशी उमड़ पड़ी। मंगलवार को नाइट ड्यूटी करने के बाद भी बुधवार को आई स्पेश्यिलिस्ट डॉ.पी.के.झा ने चलते फिरते हुए भी मरीजों की आंखों की जांच की। इसकी वजह पूछने पर पता चला कि सभी डॉक्टरों का प्रमोशन हो गया है और लेवन वन की श्रेणी में अब कोई भी डॉक्टर नहीं है।

यही नहीं, प्रमोशन की खुशी में अस्पताल में बुधवार की सुबह मिठाईयां भी बांटी गई। अस्पताल की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ.राजरानी कंसल ने बताया कि जिले समेत पूरे यूपी में डॉक्टरों को प्रमोट किया गया है। लेवन वन में आने वाले चाइल्ड स्पेश्यिलिस्ट डॉ.राज सिंह, आई स्पेश्यिलिस्ट डॉ.पी.के.झा, आर्थोपैडिक सजर्न डॉ.शेखर यादव और डॉ.डीएम सक्सेना प्रमोट होकर अब लेवल टू में आ गए हैं। फिजीशियन डॉ.रेनू अग्रवाल प्रमोट होकर लेवल टू से थ्री में आ गई है।

अस्पताल के आर्थोपैडिक सजर्न डॉ.शेखर यादव ने कहा कि डॉक्टरों के प्रमोशन का मसला पिछले कई वर्षो से अटका हुआ था। मंगलवार को मिले शासनादेश के अनुसार अस्पताल के सभी डॉक्टर प्रमोट हो गए हैं। फिजीशियन डॉ. लोकश पहले से ही लेवल चार में हैं। प्रमोट होने वाले डॉक्टरों की लिस्ट में डॉ.लोकेश का नाम नहीं है,जिस पर उन्होंने आपत्ति जाहिर की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हुआ प्रमोशन तो डॉक्टरों में जागा इमोशन