DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदेश के बिजलीघरों की सभी इकाइयां चालू

दीपावली की पीक मांग पूरी करने के लिए बिजली विभाग ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। शुक्रवार को प्रदेश की लगभग सभी विद्युत इकाइयों को उत्पादनरत कर लिया गया जिनसे 2700 मेगावाट के करीब बिजली मिल रही थी। पनकी की बन्द पड़ी चौथी इकाई से भी देर रात तक बिजली उत्पादन शुरू होने की सम्भावना जताते हुए निगम प्रबंधन ने बताया कि 14 अक्तूबर से बंद ओबरा की 200 मेगावाट की 13वीं व दो अक्तूबर से ठप 11वीं इकाइयों को गुरुवार की शाम को चालू कर दिया गया।

कोशिश की जा रही है कि दीपावली पर प्रदेश को अधिक से अधिक बिजली मुहैया करायी जा सके। फिर भी प्रदेश में बिजली की मांग धनतेरस और दीपावली के चलते बढ़कर एक बार फिर नौ हजार मेगावाट से अधिक पहुंच चुकी है। ग्रिड से निर्धारित कोटे से लगभग 20 मिलियन यूनिट अधिक का ओवरड्राल किया गया फिर भी 1800 मेगावाट बिजली की कमी से प्रदेश को जूझना पड़ा।

इस बीच प्रदेश में केंद्रीय सेक्टर की एनटीपीसी की बंद इकाइयों को भी चालू करने की पूरी कोशिश जारी है। टांडा विद्युतगृह की 14 अक्तूबर को ब्वायलर टय़ूब लिकेज से बंद पड़ी तीसरी इकाई को चालू कर लिया गया जबकि रिहन्द की 500 मेगावाट की चौथी इकाई से शुक्रवार की देर शाम तक पूरी क्षमता से उत्पादन होने की उम्मीद है। प्रदेश को एनटीपीसी के विद्युतगृहों से लगभग चार हजार मेगावाट से अधिक बिजली कोटे के रूप में हासिल होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रदेश के बिजलीघरों की सभी इकाइयां चालू