DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अफसरों से ज्यादा रोशन होंगे कर्मचारियों के घर

दिवाली पर नगर निगम के अफसरों के मुकाबले कर्मचारियों के घर ज्यादा रोशनी होगी। कर्मचारियों के मुकाबले अफसरों के दीये टिमटिमाते नजर आएंगे। निगम के आला अफसरों के फैसले ने यह भेद कर दिया और दिवाली मनाने वास्ते कर्मचारियों को बिना ब्याज के एडवांस रकम दे दी। विकास कार्यों का एडवांस रुपया जमा न करवाने की एवज में अफसरों की तनख्वाह रोक दी गई।


त्यौहारी मौके पर अफसरों की चिंता बढ़ गई। कई पेंशनधारकों की पेंशन पर भी तलवार लटक गई। उधर, कर्मचारी नेता नरेश शास्त्री ने एडवांस देने पर नगर निगमायुक्त सीआर राणा का शुक्रिया अदा किया है।


निगम कार्यालयों में कर्मचारी व अफसरों की चहलकदमी खूब रही। एडवांस लेने के लिए चतुर्थ श्रेणी के करीब साढ़े तीन हजार कर्मचारी कतार में लगे थे। मुरझाए चेहरे वाले कई अफसर भी घूम रहे थे। दोनों की खुशी व गम की मुख्य वजह निगम के आला अफसरों का फैसला था।


दरअसल, कई अफसरों ने विकास कार्यों के लिए जो एडवांस रकम ली थी, उसका पूरा हिसाब नहीं दिया। काफी अफसरों पर एक करोड़ से ज्यादा पैसा बकाया था। कुछ ने बिल वाउचर जमा करवाकर हिसाब पूरा कर दिया। जिन पर बकाया है, रिकवरी के लिहाज से उनकी तनख्वाह रोक दी। जब तक बकाया क्लीयर नहीं करेंगे, तनख्वाह नहीं देने का फरमान जारी हुआ है।


उधर, धूमधड़ाके से दिवाली वास्ते कर्मचारियों ने एडवांस रकम की मांग की। निगमायुक्त ने चतुर्थ श्रेणी के प्रत्येक कर्मचारी को दो हजार रुपए बतौर एडवांस दिये हैं और बिना ब्याज के यह रकम दी है। जिसको तीन से चार किश्तों में कर्मचारी लौटा सकेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अफसरों से ज्यादा रोशन होंगे कर्मचारियों के घर