DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

..तो अब एक नैनो डार्ट में समा जाएगा ऑफिस या बिजनेस

अब ऑफिस या बिजनेस मीटिंग के लिए जल्दबाजी या रास्ते में जाम की चिंता नहीं सताएगी।10 नैनो मीटर डायमीटर वाले नैनो डार्ट में सूचनाओं से भरपूर 250 मिलियन पन्ने संजोये जा सकेंगे। इसमें लाइब्रेरी, कंपनियों या ऑफिसों के डाटाबेस महज एक चिप में समा जाएंगे, जिसे आप अपनी जेब में भी लेकर घूम सकेंगे।


जी हां, नैनो टेक्नोलॉजी के बदलते युग में कुछ ऐसा ही कमाल दिखाने में विशेषज्ञ जुटे हैँ। सिलिकन चिप, फेरस और प्लेटिनम से बनी इस चिप की बदौलत किसी भी व्यक्ति को आफिस, कंपनी या बिजनेस से दूर रहकर, इसकी चिंता नहीं सताएगी। नैनो टेक्नोलॉजी का मेडिकल, सिक्योरिटी और सीमाओं पर होने वाली लड़ाई के वक्त भी अलग-अलग उपकरणों में पहले से उपयोग किया जाता रहा है।


गुड़गांव के अंसल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में नैनो टेक्नोलॉजी पर आयोजित इंटरनेशनल सेमिनार में मौजूद विशेषज्ञ नॉर्थ कैरोलिना स्टेट यूनिवर्सिटी के प्रो. जे नारायण ने बताया कि सिलिकॉन चिप पर फेरस और प्लेटिनम की मदद से नैनो डार्ट बनाने में वैज्ञानिक जुटे हुए हैं। उन्होंने बताया कि सूचना तकनीक के दौर में डाटाबेस को सुरक्षित रखने की चिंता लोगों को सताने लगी है। ऐसे में नैनो डार्ट की खोज नैनो टेक्नोलॉजी की ओर से लोगों के लिए एक नायाब तोहफा साबित होगा।


नारायण बताते हैं कि नैनो टेक्नोलॉजी के जरिये निहायत छोटा आकार होने के बावजूद इसमें करोड़ों पेजों को संग्रहित करने के लिए इस स्टोरेज सिस्टम को विकसित किया जा रहा है। लाइब्रेरी, ऑफिस या कंपनियों के डाटा बेस को स्टोर करने के लिए अमेरिकी कंपनी सी-गेट में इसका अनुसंधान किया जा रहा है।
प्रो. नारायण के मुताबिक अगले वर्ष तक इस डार्ट के अंतर्राष्ट्रीय बाजार में लांच किए जाने का अनुमान है। उन्होंने बताया कि नैनो फ्यूल एडीटिव के विकास की दिशा में भी वैज्ञानिक जुटे हैं। इससे न केवल ईंजन की क्षमता में बढ़ोतरी होगी, बल्कि प्रदूषण को नियंत्रित करना भी संभव हो सकेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एक नैनो डार्ट में समा जाएगा ऑफिस या बिजनेस