DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वेटलिफ्टरों की डोपिंग से भारत पर लग सकता है प्रतिबंध

वेटलिफ्टरों की डोपिंग से भारत पर लग सकता है प्रतिबंध

भारत के कुल छह भारोत्तोलकों के पिछले महीने प्रतियोगिता से इतर डोपिंग परीक्षण में पाजीटिव पाए जाने के बाद भारतीय भारोत्तोलन महासंघ (आईडब्ल्यूएफ) पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध का खतरा मंडराने लगा है जिससे भारतीय भारोत्तोलकों का अगले साल राष्ट्रमंडल खेलों से बाहर बैठना पड़ सकता है।

पुरुष भारोत्तोलक हरभजन सिंह और राजेश कुमार (दोनों 94 किग्रा) तथा महिला भारोत्तोलक विजया देवी (69 किग्रा) और शैलजा पुजारी (75 किग्रा)  विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) के परीक्षण में असफल रहे। ये परीक्षण मलेशिया के पेनांग में 18 से 23 अक्तूबर के बीच होने वाली राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप के लिए पुणे में आयोजित चयन ट्रायल के दौरान किए गए थे।

इस तरह से अब तक कुल छह भारोत्तोलक डोपिंग के दोषी पाए गए हैं जिनमें से पांच को वाडा और एक को राष्ट्रीय डोपिंगरोधी एजेंसी (नाडा) के परीक्षण में पकड़ा गया है। इससे पहले वाडा के परीक्षण में 2006 मेलबर्न राष्ट्रमंडल खेलों के रजत पदक विजेता विक्की बत्ता (56 किग्रा) को पाजीटिव पाया गया था। महाराष्ट्र की जूनियर महिला भारोत्तोलक प्रियदर्शिनी को नाडा परीक्षण में डोपिंग का दोषी करार दिया था।

आईडब्ल्यूएफ के शीर्ष अधिकारी ने पुष्टि की अंतरराष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ ने पांच भारोत्तोलकों के वाडा परीक्षण में पाजीटिव पाए जाने के संबंध भारतीय महासंघ को जानकारी दे दी है। उन्होंने कहा कि हमें वाडा और आईडब्ल्यूएफ दोनों से जानकारी मिल गई है कि वाडा ने सितंबर में पुणे में किए गए परीक्षण में पांच भारोत्तोलकों को डोपिंग का दोषी पाया है। उन्होंने कहा कि इससे अब हम पर एक साल का प्रतिबंध लग सकता है हालांकि इसका फैसला आर्ठडब्ल्यूएफ कार्यकारी बोर्ड करेगा। हमें इसके अलावा जुर्माने के तौर पर 50 हजार डालर भी देने होंगे।

अंतरराष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ की डोपिंग रोधी नीति के अनुसार भारत को दो साल का निलंबन झेलना पड़ सकता है और उसे 50 हजार डालर का जुर्माना भी भरना होगा। इससे पहले भारतीय महासंघ पर 2004 और 2006 में भी प्रतिबंध लगा था। नए घटनाक्रम से भारतीय भारोत्तोलकों को तीन से 14 अक्तूबर तक होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों से बाहर रहना पड़ सकता है। इससे रविवार से शुरू हो रही राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप में भी भारतीयों के प्रदर्शन पर प्रभाव पड़ सकता है। शैलजा को इस चैंपियनशिप के लिए टीम में चुना गया था लेकिन अब उनके स्थान पर रिजर्व खिलाड़ी को चुना गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वेटलिफ्टरों की डोपिंग से भारत पर लग सकता है प्रतिबंध