DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आजमगढ़ में अष्टधातु की नौ मूर्तियों की लूट

देवगांव कोतवाली क्षेत्र के माधोपुर धरांग गांव के प्राचीन श्रीराम जानकी मंदिर पर पहरा दे रहे  दो होमगार्डो को पेड़ से बांधकर बुधवार के रात में बदमाशों ने अष्टधातु की नौ मूर्तियां लूट लीं। लूटी गयी मूर्तियों की कीमत पांच करोड़ रुपये आंकी गयी है। गुरुवार की सुबह पुलिस अफसरों के साथ फिंगर प्रिंट एक्सपर्टो ने छानबीन की।

आजमगढ़-वाराणसी मार्ग पर देवगांव कोतवाली से पांच किलोमीटर दूर माधोपुर धरांग गांव में सैकड़ों वर्ष पुराना श्रीराम जानकी मंदिर है। इस मंदिर में भगवान राम, माता जानकी तथा लक्ष्मण के साथ कई देवताओं की छोटी-बड़ी नौ अष्टधातु की मूर्तियां स्थापित थीं। बुधवार की रात मार्शल गाड़ी से आये सात बदमाशों ने मंदिर के मुख्यद्वार पर पहरा दे रहे होमगार्ड भरत राम व श्रीपति राम को एक पेड़ से बांध दिया और गेट का ताला तोड़कर अंदर घुस गये तथा सभी मूर्तियां ले भागे।

जाते समय बदमाशों ने होमगार्डो को पेड़ से खोलकर उन्हें मंदिर में बंद कर दिया। मंदिर की तीसरी मंजिल पर सो रहे पुजारी रामाधार दास व उनके शिष्य अजीत यादव को इस घटना की भनक तक नहीं लगी। होमगार्डो ने चिल्लाकर उन्हें जगाया तो वे नीचे उतरे और मूर्तियों को गायब देख देवगांव पुलिस को इसकी जानकारी दी। रात में ही कोतवाल आरके भारती मंदिर पर गये और पूछताछ की।

गुरुवार की सुबह एएसपी सिटी ओपी श्रीवास्तव ने वहां जाकर पुजारी व अन्य लोगों से जानकारी ली। इसके अलावा फिगर प्रिंट एक्सपर्टो ने भी छानबीन की और नमूने लिये। पुजारी व ग्राम प्रधान लालचन्द्र यादव आदि ने बताया कि लूटी गयी मूर्तियों का वजन लगभग 60 किलो और उनकी कीमत पांच करोड़ रुपये है।

2006 में भी मन्दिर की सभी नौ मूर्तियां चोरी हुई थीं और उस समय भी उनकी कीमत तत्कालीन अफसरों ने पांच करोड़ रुपये बतायी थी। उस बार दस दिन में ही पुलिस ने मूर्तियां बरामद कर ली थीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आजमगढ़ में अष्टधातु की नौ मूर्तियों की लूट