DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फ्रांसिस इंदुवार के बच्चों का दर्द समझता हूं: राहुल गांधी

कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने अपने झारखंड दौरे के दौरान गुरुवार को दिवंगत इंस्पेक्टर फ्रांसिस इंदुवार के घर गए और उनके तीनों बच्चों के प्रति संवेदना जताते हुए कहा कि एक आत्मघाती हमलावर के हमले में उनके पिता को खोने को दर्द को वे समक्षते हैं। नक्सलियों ने दस दिन पहले, छह अक्तूबर को इंदुवार का सर काट दिया था। राहुल झारखंड की अपनी यात्रा के दूसरे दिन करीब 20 मिनट तक इंदुवार के घर पर रूके।

उन्होंने इंदुवार की पत्नी सुनीता तथा पांचवी, छठी और सातवीं कक्षा में पढ़ रहे उनके तीनों बच्चों से कहा कि तमिलनाडु के श्रीपेएम्बुदूर में 1991 में उन्होंने भी एक आत्मघाती हमले में अपने पिता राजीव को खो दिया था। राहुल ने कहा कि मैंने भी अपने पिता को खो दिया। लेकिन तब मैं 19 साल का था। आप लोगों से थोड़ा बड़ा। अच्छे से पढ़ाई करना।

सुनीता ने संवाददाताओं को बताया कि राहुल ने मुझसे राज्य में नक्सलवाद पर रोक लगाने के लिए सुक्षाव पूछे। मैंने उन्हें बताया कि ग्रामीण इलाकों में मूलभूत सुविधाएं जैसे स्वास्थ्य, शिक्षा और सड़कें आदि होनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फ्रांसिस इंदुवार के बच्चों का दर्द समझता हूं: राहुल गांधी