DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खेतिहर मजदूर 30 घंटें का "घेरा डालो डेरा डालो" आंदोलन करेगा

बिहार प्रांतीय खेतिहर मजदूर यूनियन मजदूरों की समस्या को लेकर आगामी 30-31 अक्टूबर को प्रखंड मुख्यालयो पर 30 घंटे का "घेरा डालो डेरा डालो" आंदोलन करेगी।
 

यूनियन के अध्यक्ष सारगंधर पासवान ने कहा कि पिछले वर्ष से ही बाढ़ और सूखे की मार झेल रहे खेत मजदूरों के लिए सरकार ने कोई कारगर कदम नहीं उठाया है। उन्होंने कहा कि दो माह पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सूखा पीडि़तों के बीच एक-एक क्विंटल अनाज और 250 रूपए नगद भुगतान करने की घोषणा की थी लेकिन आज तक गरीबों को अनाज का एक भी दाना उपलब्ध नहीं कराया जा सका है। 
 

पासवान ने कहा कि पूरे बिहार में अब तक 34 गरीब मजदूरों की भूख से मौत हो चुकी है और सैकडों मजदूर मौत की कगार पर खड़े हैं। उन्होंने कहा कि भूख से घुट-घुट कर मरने से अच्छा है कि सीधी कार्रवाई करते हुए सरकारी गोदामों एवं जमाखोरों के गोदामों से अनाज निकालकर गरीबों में वितरण किया जाए। उन्होंने कहा कि भूख से मरने से सरकार की लाठी गोली खाकर जीवन लीला समाप्त करना अच्छा है।


 यूनियन नेता ने कहा कि इसी के तहत 30-31 अक्टूबर को प्रखंड मुख्यालयों पर 30 घंटे का "घेरा डालो डेरा डालो" आंदोलन किया जाएगा तथा 17 और 18 नवम्बर को जिला मुख्यालयों पर दो दिवसीय धरना प्रदर्शन आयोजित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इसके बाद सभी जिलों में दलित अधिकार सम्मेलन आयोजित कर मुख्यमंत्री के दलितों के प्रति असली रूख का पर्दाफाश किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खेतिहर मजदूर "घेरा डालो डेरा डालो" आंदोलन करेगा