DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शौक कुछ कम नहीं: फिल्मी सितारों की दीपावली

शौक कुछ कम नहीं: फिल्मी सितारों की दीपावली

रणबीर कपूर
मुझे ताश खेलने का शौक तो बिल्कुल नहीं है, लेकिन दीवाली पर पटाखे छुड़ाना बहुत पसंद है। बचपन में मैं बहुत पटाखे छुड़ाता था। आज भी मैं चाहे जितना व्यस्त रहूं, दीवाली पर एक आउटफिट जरूर सिलवाता हूं और ढेर सारे पटाखे भी फोड़ता हूं। इस दीवाली पर भी मेरा ऐसा ही कुछ इरादा है। साथ ही मैं अपने प्रशंसकों को दीवाली की ढेर सारी शुभकामनाएं भी देना चाहूंगा।

अनिल कपूर
पटाखे छुड़ाना अब मुझे इतना ज्यादा पसंद नहीं है, लेकिन बचपन और जवानी में मैं खूब पटाखे छुड़ाया करता था। वैसे पहले से ही मुङो खूबसूरत रोशनी बिखेरने वाले पटाखे ज्यादा पसंद हैं। ज्यादा आवाज वाले पटाखे मैं नहीं छुड़ाता। जहां तक दीपावली के शुभ मौके पर ताश खेलने का सवाल है तो मैं ताश खेलने का शौकीन शुरू से ही हूं। खास तौर पर दीवाली पर मैं तीन पत्ती जरूर खेलता हूं और मेरा साथ देते हैं मेरे खास दोस्त राकेश रोशन। जीतेन्द्र भी मेरे साथ तीन पत्ती खेलते हैं। हम लोग हर दीवाली पर एंजॉय करते हैं। इस बार भी पूरे जोश और रीति-रिवाज के साथ दीवाली का त्योहार मनायेंगे और लक्ष्मी मां का स्वागत करेंगे।

करीना कपूर
मैं शूटिंग में चाहे जितना व्यस्त रहूं, पर दीवाली का त्योहार पूरे जोश के साथ मनाती हूं। दीवाली की रात पूरी Þाद्धा के साथ लक्ष्मी-गणोश की पूजा करती हूं।  दीवाली पर ताश खेलने को मैं बुरा नहीं मानती, क्योंकि यह इस त्योहार की एक प्रथा है। जहां तक दीवाली पर पटाखे छुड़ाने का सवाल है तो वह मैं नहीं करती, क्योंकि मुङो पटाखे छुड़ाना अब बहुत ज्यादा पसंद नहीं है। हां, बचपन में मैं बहुत पटाखे छुड़ाया करती थी।

प्रीति जिंटा
दीवाली का त्योहार मैं बहुत एंजॉय करती हूं और पूरी तरह ट्रेडिशनल तरीके से मनाती हूं। दीवाली पर पटाखे छुड़ाने से ज्यादा मुङो लोगों को पटाखे छुड़ाते देखने में मजा आता है। खास तौर पर आसमान में जो आतिशबाजी होती है, वह देखना मुङो बहुत अच्छा लगता है, लेकिन जहां तक दीवाली पर जुआ खेलने का सवाल है तो मैं उसके खिलाफ हूं। इसे मैं लक्ष्मी मां का अपमान समझती हूं, इसलिये  मैं कभी ताश नहीं खेलती।

सबसे पहले तो मैं यह कहना चाहूंगी कि दीपावली मेरा सबसे फेवरेट त्योहार है और मैं इस त्योहार को बहुत एंजॉय करती हूं। दीवाली पर ताश या जुआ खेलना अर्थात फ्लैश खेलना मुङो बहुत पसंद है, लेकिन यह शौक सिर्फ दीवाली तक ही सीमित है और इसे मैं सिर्फ मनोरंजन के लिये खेलती हूं। जुआ खेलते वक्त हार या जीत से मेरा कोई सरोकार नहीं है। वैसे कहते हैं कि दीवाली पर ताश खेलते वक्त जो भी जीतता है, उसके ऊपर लक्ष्मी जी पूरा साल मेहरबान रहती हैं। जहां तक दीवाली पर पटाखे छुड़ाने का सवाल है तो मुङो बहुत ज्यादा पटाखे छुड़ाने का शौक नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शौक कुछ कम नहीं: फिल्मी सितारों की दीपावली