DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घर से दूर, पर दिल के पास

घर से दूर, पर दिल के पास

मीका, गायक
बहुत बार ऐसा हुआ है कि मैंने घर से दूर, दोस्तों से दूर रह कर दीपावली मनाई है। दो साल पहले भी ऐसा ही हुआ था। ‘झलक दिखला जा’ की शूटिंग के दौरान मैं दीवाली पर अपने घर वालों के साथ नहीं था। तभी महसूस हुआ कि हम दिल्ली में कितनी पटाखेदार दीवाली मनाते हैं। मैं तो पटाखे देर रात तक छुटाता हूं। आसपास के लोगों को देर-रात तक मेरे पटाखों की गूंज सुनाई देती है। ऐसे में घर से दूर दीवाली मनाना बिलकुल भी रास नहीं आता। जब दीवाली पर घर से दूर होता हूं तो पूरी यूनिट में उपहार बांटता हूं। इससे मेरे साथ रहने वाले लोगों के चेहरों पर भी खुशी आ जाती है।  इस तरह  मैं इकट्ठे दीवाली मनाने का मजे लूट ही लेता हूं, पर घर की बात ही कुछ और होती है।


रवि  किशन, अभिनेता
मेरे साथ अक्सर ऐसा होता है कि दीवाली पर मैं बहुत व्यस्त होता हूं, पर मेरी कोशिश हमेशा यही रहती है कि दीपावली परिवार के साथ मनाऊं। मैं कई बार दीवाली पर घर से दूर रहा हूं। एक बार मैं साउथ अफ्रीका में शूटिंग कर रहा था। मेरे साथ मिथुन दा व संजय दत्त थे। उस वक्त हम लोगों ने मिल कर दीवाली मनाई थी। इस बार भी मैं ‘रावण’ की शूटिंग में व्यस्त हूं, पता नहीं दीपावली का त्योहार कैसे मना पाऊंगा?

दलेर मेहंदी, पॉप सिंगर
दीपावली धूमधाम से मनाना मुङो बहुत अच्छा लगता है। मेरी दीवाली में गाना-बजना व खाना खूब होता है। कई ऐसे मौके आए हैं, जब घर से दूर रह कर दीपावली मनाई है। सचमुच बहुत खराब लगा। एक बार तो एक प्रोग्राम के कारण जब दीवाली पर घर से दूर था तो पूरी यूनिट के साथ सेलिब्रेट किया था। मेरा सेलिब्रेशन बढ़िया खाने से होता है। खाने का मैं बेहद शौकीन हूं। खुद भी डिश बनवाता हूं।  महफिल जमती है, जो पंजाबी गानों से शुरू होकर भजनों पर खत्म होती है।

ब्लॉसम कोचर, ब्यूटी एक्सपर्ट
मैं दीवाली हमेशा अपने परिवार के साथ मनाती हूं और उस दिन खुद को तमाम व्यस्तताओं से दूर रखती हूं। यही तो एक फेस्टिवल है, जब आप सबके साथ होते हैं। मुङो घर से दूर दीपावली मनाने का कोई अनुभव नहीं है। बस घर पर रह कर पूज करना, बच्चों को गिफ्ट्स देना व घर में डेकोरेशन करना, यही मेरी दीपावली है। काश कि घर ही में हमेशा परिवार के साथ दीपावली मनाती रहूं। घर से दूर रह कर दीवाली मनाने का अनुभव भगवान करे, मुङो न हो।
 
अयान अली, सरोद वादक
मैं एक धार्मिक परिवार से हूं। मेरी मां असम से हैं। दीपावली हम सब इकट्ठे ही मनाते हैं। पिछले साल मैं मुंबई में था। मेरे भाई की शादी के बाद पहली दीपावली थी। जे.पी. दत्ता की फिल्म की शूटिंग की तैयारी चल रही थी, घर नहीं आ सकता था। मुङो गरीब बच्चों के साथ दीपावली की खुशियां बांटने में मजा आता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:घर से दूर, पर दिल के पास