DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हड़ताल से 21000 टन यूरेनियम उत्खनन की क्षति

देश में यूरेनियम अयस्क का खनन करने वाले एकमात्र संगठन यूरेनियम कारपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (यूसिल) के चार हजार से अधिक श्रमिकों की वेतन वृद्धि और कुछ अन्य मांगों को लेकर चल रही बेमियादी हड़ताल आज सातवें दिन भी जारी रही जिससे अब तक कम से कम 21 हजार टन यूरेनियम अयस्क की उत्खनन क्षति का अनुमान है।


 इस बीच हड़ताल समाप्ति के लिए प्रबंधन श्रमिक संघों के प्रतिनिधियों और क्षेत्रीय श्रमायुक्त की त्रिपक्षीय वार्ता आज शाम धनबाद में होने वाली है।


 यूसिल के चार प्रमुख मजदूर संगठनों के लगभग 4400 मजदूरों की संयुक्त हड़ताल के चलते इसकी सभी 6 चालू खदानों नरवा पहाड़, भटिन तुरामडीह जादूगोड़ा, बांदहूराम तथा बागजाता में खुदाई तथा दो प्रोसेसिंग इकाइयों में कामकाज पूरी तरह ठप है। इससे रविवार की सामान्य बंदी को छोड़ अब तक छह दिन में प्रतिदिन औसतन साढ़े तीन हजार टन अयस्क उत्पादन का काम बाधित रहा है।


 हड़ताल खत्म करने के लिए अब तक तीन दौर की बातचीत विफल हो गई है। यूसिल प्रबंधन ने श्रमिकों से काम पर लौट आने की अपील की है जबकि श्रमिक संघों ने मांगें पूरी होने तक हड़ताल जारी रखने की बात कही है। देश में चालू हालत वाली यूरेनियम खदाने फिलहाल केवल झारखंड के पूर्वी सिंहभूम तथा पड़ोसी सरायकेला, खरसावां जिले में ही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हड़ताल से 21000 टन यूरेनियम उत्खनन की क्षति