DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खुद का नारको टेस्ट कराने की गुहार

चर्चित कविता कांड के आरोपियों ने अदालत में प्रार्थना पत्र देकर खुद का नारको टेस्ट कराने की गुहार लगाई। उन्होंने सीबीआई पर गलत तरीका अपनाकर गवाहों से अपनी पहचाने कराने का आरोप लगाया।


चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय की लेक्चरर डॉ. कविता के गायब होने के मामले में बुलंदशहर निवासी सुल्तान सिंह और योगेश डासना जेल में बंद हैं। इस कांड के मुख्य आरोपी रविंद्र प्रधान की जेल में मौत हो चुकी है। पुलिस ने सुल्तान और योगेश को 24 जनवरी 2007 को गिरफ्तार किया था। इन दोनों ने विशेष सीबीआई अदालत में प्रार्थना पत्र देकर खुद को निर्दोष बताते हुए अपना नारको एनालिसिस टेस्ट कराने की गुहार लगाई। उन्होंने आरोप लगाया कि सीबीआई गलत तरीके से गवाहों से उनकी पहचान करा रही है, जबकि गवाह उनको पहचानते नहीं है। सीबीआई के वकील अभियुक्तों से गवाहों के सामने उनके नाम लेकर वकील के बारे में पूछते हैं।

इसके बाद गवाहों से अभियुक्तों की पहचान कराई जा रही है। उन्होंने कोर्ट से अभियुक्तों के पेश होने से पहले ही गवाहों और वकीलों को कोर्ट में बुलाने तथा वीडियोग्राफी कराने की गुहार लगाई। अदालत ने प्रार्थना पत्र पर सुनवाई के लिए 21 अक्तूबर की तारीख लगाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खुद का नारको टेस्ट कराने की गुहार