DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डेंगू के नाम पर मामूली बुखार को डेंगू बता कर रहे इलाज

प्राइवेट अस्पतालों द्वारा सामान्य बुखार के मरीज को भी डेंगू बताकर इलाज करने का मामला प्रकाश में आया है। स्वास्थ्य विभाग ने दो प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती दो मरीजों की जब अपने लैब में सैंपलिंग कराई तो यह खुलासा हुआ। इसमें से एक मरीज बृजविहार के कौशिक अस्पताल में भर्ती था, जबकि दूसरा मरीज जिले के लोकप्रिय अस्पताल में भर्ती था। स्वास्थ्य विभाग की जांच में दोनों मरीजों के आईजीजी और आईजीएम निगेटिव पाए गए हैं। विभाग की ओर से दोनों अस्पतालों को चेतावनी दे दी गई है कि अगर दोबारा ऐसा मामला आया तो रजिस्ट्रेशन कैंसल हो जाएंगे।


बृजविहार के रहने वाले संजय कुमोटिया को कुछ दिनों से बुखार था। उसे इलाज के लिए कौशिक अस्पताल में भर्ती किया गया था। उसका सैंपल कौशांबी के एक छोटे लैब को भेजा गया था, जहां मरीज के आईजीजी और आईजीएम पॉजिटिव बताए गए। मरीज को डेंगू बताकर इलाज शुरू कर दिया गया। जब सीएमओ ऑफिस की ओर से तत्काल सैंपल की जांच एमएमजी अस्पताल में कराई गई, तो वहां आईजीजी और आईजीएम निगेटिव पाया गया। इसी तरह मोदीनगर स्थित लोकप्रिय अस्पताल में बुखार से पीड़ित महिला संध्या को डेंगू बता दिया गया। सीएमओ आफिस की ओर से जब महिला की सैंपल किट मंगाई गई, तो पाया गया कि आईजीएम निगेटिव था और आईजीजी भी स्पष्ट नहीं थे। दोनों मामलों को फर्जी मानते हुए सीएमओ डॉ़ एके धवन ने चेतावनी जारी कर दी है कि अगर दोबारा मामला मिला तो एपीडेमिक एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि कई मामलों में मरीज को समान्य बुखार होता है, लेकिन पैसे कमाने के लालच में प्राइवेट अस्पताल उसे डेंगू बता देते हैं। ऐसे मामलों में सख्त कार्रवाई होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मामूली बुखार को डेंगू बता कर रहे इलाज