DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टोकन सिस्टम से खरीदा जाएगा धान

किसानों को बिचौलियों से बचाने के लिए इस बार सरकारी धान खरीद में टोकन सिस्टम लागू किया जा रहा है। क्रय केन्द्रों के जरिए धान खरीदने को प्रशासन पहले ही किसानों का कम्यूटरीकृत डाटा तैयार कर रहा है। इस नई व्यवस्था में किसानों को खरीद से पूर्व टोकन दिए जाने हैं, जिनके जरिए उनको सेंटर पर अपना माल बेचने के लिए न लाइन में लगना पड़ेगा और न बिचौलियों की कोई जरूरत होगी।


बिचौलिए किसानों के हित पर किस तरह डाका डालते रहे हैं, यह स्थिति किसी से छिपी नही हैं। अब तक सरकारी क्रय केन्द्रों पर अनाज पहुंचाने में जबरदस्त मारामारी होती थी। जिसका लाभ बिचौलिए उठाते थे। किसानों को उनके अनाज का पूरा मूल्य मिले, इसके लिए शासन धान खरीद से टोकन सिस्टम लागू कर रहा है। एडीएम सिटी एसके श्रीवास्तव ने बताया कि आगामी दिनों में धान की खरीद के लिए गाजियाबाद जिले में चार क्रय केन्द्र - हापुड़, गढ़, भोजपुर और धौलाना में बनाए जा रहे हैं। कितने किसानों ने कितना बोया, फसल की स्थिति के बारे में एनआईसी के जरिए पहले ही डाटा फीडिंग कराई जा रही है। जितने भी किसान धान बेचेंगे, उनके नाम व पते सूची में जोड़कर सभी को पहले ही टोकन दे दिया जाएगा। इसके बाद वे जब चाहें, समीपवर्ती क्रय केन्द्र पर माल ले जाकर बेच सकते हैं। उनका पैसा तुरंत खाते में भिजवा दिया जाएगा। एडीएम ने बताया कि गाजियाबाद में पूरे प्रदेश में सबसे कम धान खरीद का लक्ष्य दो सौ मीटरी टन रखा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:टोकन सिस्टम से खरीदा जाएगा धान