DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दीवाली के बाद ही मिल पाएगी गरीबों को चीनी

गरीबों को दिवाली के मौके पर चीनी का तोहफा नहीं मिल पाएगा। स्टॉक की कमी जैसे बहाने बताकर चीनी मिलों ने चीनी देने से इंकार कर दिया। इससे जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। जब डीएम ने एस्मा के तहत कार्रवाई की चेतावनी दी, तो चीनी मिलों की अकड़ ढीली पड़ी और वह चीनी देने को तैयार हुई।


बाजार में चीनी की कीमतों के आसमान छूने के कारण चीनी मिलों ने खाद्य विभाग को राशन की चीनी देने से इंकार कर दिया। चीनी मिल बीपीएल और अंत्योदय कार्डधारकों के लिए खाद्य विभाग को 1400 रुपए कुंतल के रेट पर चीनी देती है। बाजार में चीनी महंगी होने के कारण मिल बहाने बनाने लगी। हालांकि मिलों ने चीनी नहीं देने के पीछे की वजह स्टॉक की कमी होना बताया। खाद्य विभाग के अफसरों ने चीनी मिलों का स्टॉक चेक किया तो वहां भरपूर चीनी मिली। यह रिपोर्ट जिला प्रशासन को भेज दी गई। चीनी मिलों की मनमानी के चलते गरीबों को दीवाली से पहले चीनी मिलने की संभावना नगण्य है।


गाजियाबाद के वरिष्ठ विपणन निरीक्षक हरिमोहन सिंघल ने बताया कि जिले में हर महीने 1420 कुंतल चीनी का वितरण गरीबों को किया जाता है। नियमित चीनी के अलावा लोगों को दीवाली पर प्रति कार्ड 700 ग्राम चीनी अतिरिक्त मिलेगी। डीएम ने चीनी मिलों को नोटिस जारी कर आवश्यक वस्तु अधिनियम (एस्मा) के तहत कार्रवाई करने की चेतावनी दी। इस चेतावनी के बाद चीनी मिलों के हौसलें पस्त हो गए। जिले की मोदीनगर, बृजनाथपुर और सिंभावली चीनी मिल बीपीएल कार्डधारकों को चीनी देने के लिए राजी हो गई है और चीनी रिलीज करने की तैयारी कर रही है। हरिमोहन सिंघल ने बताया कि अगर गुरुवार तक चीनी जारी हो गई, तो दीवाली से पहले गरीबों को इसका वितरण हो जाएगा। नहीं तो दीवाली के बाद ही लोगों को चीनी मिल पाएगी।

एक नजर इसपर भी
बीपीएल और अंत्योदय कार्डधारक
शहरी बीपीएल कार्ड-3615
ग्रामीण बीपीएल कार्ड-24824
कुल बीपीएल कार्ड-28439
शहरी अंत्योदय कार्ड-2249
ग्रामीण अंत्योदय कार्ड-15056
कुल अंत्योदय कार्ड-17305
गरीबों के लिए चीनी रेट-13.50 रुपए किलो

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दीवाली के बाद ही मिल पाएगी गरीबों को चीनी