DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डिविडेंड

डिविडेंड एक तरह का लाभांश होता है जो कंपनी मुनाफा कमाने पर अपने शेयरधारकों को देती है। ज्वाइंट स्टॉक कंपनी में डिविडेंड शेयरों के निश्चित मूल्य के आधार पर मिलता है, ऐसे में शेयरधारक उसके पास मौजूद शेयर के अनुपात में डिविडेंड पाता है। डिविडेंड पैसे, शेयर या अन्य क्रेडिट के रूप में दिया जा सकता है। डिविडेंड मुख्यत: तीन प्रकार के होते हैं, कैश डिविडेंड, स्टॉक डिविडेंड और प्रॉपर्टी डिविडेंड।

कैश डिविडेंड चेक के रूप में दिया जाता है। इस आय पर व्यक्ति को टैक्स अदा करना पड़ता है। उदाहरण के तौर पर किसी व्यक्ति के पास 100 शेयर हैं, उनकी कैश डिविडेंड वैल्यू 1 रुपये है तो उसे डिविडेंड के तौर पर 100 रुपये मिलेंगे। स्टॉक डिविडेंड में कंपनी आपको मिलने वाले मुनाफे के एवज में शेयर देती है। उदाहरण के तौर पर 100 शेयर रखने वाले को पांच प्रतिशत का डिविडेंड मुनाफा होने पर कंपनी उसे पांच अतिरिक्त शेयर देगी। प्रॉपर्टी डिविडेंड में लाभांश कमाने के तौर पर कंपनी शेयरधारक को प्रॉपर्टी देती है, लेकिन कंपनी प्राय: ऐसे डिविडेंड नहीं देती है। यह शेयरधारक की इच्छा पर निर्भर करता है कि डिविडेंड के रूप में मिले हुए शेयर को अपने पास रखे या उन्हें बेच दे। डिविडेंड को घोषित करने की एक तिथि होती है जिसकी घोषणा कंपनी के बोर्ड ऑफ डाइरेक्टर करते हैं।

फायदे : निवेशक के लिहाज से डिविडेंड फायदे का सौदा होता है क्योंकि उसके द्वारा निवेशित पैसे के डिविडेंड के रूप में मिल जाने की गारंटी की वजह से फायदे की स्थिति में होता है। जो स्टॉक डिविडेंड के रूप में रिटर्न देता है उसके प्रति निवेशक का भरोसा ज्यादा होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डिविडेंड