DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीन पर सर्वदलीय बैठक बुलाएं पीएम: भाजपा

चीन पर सर्वदलीय बैठक बुलाएं पीएम: भाजपा

भाजपा ने बुधवार को कहा कि चीन के आक्रामक मनसूबों का कड़ा जवाब देने की जरूरत है और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को चाहिए कि इस बारे में व्यापक राष्ट्रीय सहमति बनाने के लिए वह तुरंत सर्वदलीय बैठक बुलाएं।

पार्टी प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि प्रधानमंत्री के अरुणाचल प्रदेश दौरे का विरोध करने में चीन ने जो भाषा प्रयोग की है उसने न सिर्फ अंतरराष्ट्रीय कूटनीति के सभी मानकों को तार-तार कर डाला है, बल्कि भारत तथा इसके सामरिक हित के विरुद्ध युद्धकारिता की मनोवृत्ति की भी परिचायक है। उन्होंने कहा कि भारत को इस घटनाक्रम का पुर्नआकलन करके प्रभावी प्रत्युत्तर देना चाहिए।

भाजपा मांग करती है कि प्रधानमंत्री चीन के संपूर्ण मंसूबों, उसके साथ हमारे संबंधों और चीन को किस प्रकार का उत्तर दिया जाना आवश्यक है, के बारे में आम सहमति बनाने के लिए जल्द से जल्द एक सर्वदलीय बैठक बुलाएं। चीन के ताजा रुख पर चिंता जताते हुए प्रसाद ने कहा कि चीन की युद्ध जैसी हरकतें उसी के अनुरूप लगती हैं जैसी 1962 में की गई थीं। इतिहास बड़े भयावह रूप से अपने आपको दोहरा रहा है। हमारी सरकार के झुकते जाने तथा सीमा उल्लंघनों को जानबूझकर कम बताए जाने के बावजूद चीन दबाव बढ़ा रहा है।

प्रसाद ने आरोप लगाया कि चीन हिमालय क्षेत्र पर सभी ओर से अतिलंघन करके दबाव बढ़ाता जा रहा है और सरकार चीन की आक्रामक हरकतों का न केवल कायरतापूर्ण उत्तर दे रही है, बल्कि उसने उसके बारे में सभी सूचनाओं पर अंकुश लगा दिया है।

विदेश मंत्री एस एम कृष्णा पर निशाना साधते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि चीन के साथ संबंध चुनिंदासिविल सेवकों और हमारे विद्वान विदेश मंत्री, जिन्हें अभी अपनी छाप छोड़नी है, की सलाहों पर निर्धारित नहीं होने देनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि 1962 के आस पास भी तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की सरकार ने किसी के साथ सलाह मशविरा नहीं किया था और वह एक छोटे से करीबी समूह के द्वारा दी गई सूचनाओं पर निर्भर रही थी, जिसके नतीजे देश के लिए विनाशकारी बने। हम देखते हैं कि वही पैटर्न दोहराया जा रहा है। इसी परिप्रेक्ष्य में पार्टी ने प्रधानमंत्री से सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग की है।

प्रसाद ने कहा कि अटल बिहारी के नेतृत्व वाली राजग सरकार ने चीन के साथ के साथ अच्छे रिश्ते बनानेकी पहल की और तत्कालीन प्रधानमंत्री ने तिब्बत को चीन का अंग मानने के भारत के रुख की फिर से पुष्टि भी की। प्रसाद ने कहा कि भाजपा चीन के साथ अच्छे संबंध चाहती है लेकिन ये संबंध हमारी क्षेत्रीय अखंडता की कीमत पर स्थापित नहीं होने चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चीन पर सर्वदलीय बैठक बुलाएं पीएम: भाजपा