DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीन ने भारतीय सीमा पर हवाई पट्टी को बनाया आधुनिक

चीन ने भारतीय सीमा पर हवाई पट्टी को बनाया आधुनिक

वायु सेना उप प्रमुख एयर मार्शल पीके बारबोरा ने इस बात की पुष्टि की कि चीन ने तिब्बत क्षेत्र में अरुणाचल प्रदेश की सीमा से महज 30 किलोमीटर दूर लिंजी में अपनी हवाई पट्टी का विस्तार किया है।

एयर मार्शल बारबोरा ने अरुणाचल प्रदेश में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की यात्रा पर चीन के ऐतराज पर हैरानी जाहिर करते हुए कहा कि जब सैन्य बलों की सुप्रीम कमांडर तवांग घाटी के दौरे पर गईं थी तो चीन ने इस तरह से आपत्ति दर्ज नहीं की थी।

उन्होंने कहा कि अरुणाचल में मंगलवार को ही विधानसभा चुनाव हो रहे थे और चीन की आपत्ति के पीछे की अनकही सच्चाई को आप पढ़ सकते हैं। वायु सेना उप प्रमुख ने यह भी कहा कि चीन ने अपने इलाके में ढांचागत सुविधाओं का निर्माण किया है और व्यापक पैमाने पर सुविधाएं बनाई हैं।

यहां तक कि भारतीय सीमा से 30 किलोमीटर लिंजी में उसने अपनी हवाई पट्टी का विस्तार किया है तो उसे भी भारतीय सीमा के भीतर किए जा रहे विकास कार्यों पर कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए। एयर मार्शल बारबोरा ने स्पष्ट किया कि भारत पूर्वोत्तर भारत या लद्दाख में अपनी सुविधाओं का निर्माण किसी खतरे या किसी देश के खिलाफ नहीं कर रहा है।

उन्होंने कहा कि यह हमारे समग्र विकास की रणनीति का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि अरुणाचल प्रदेश और पूर्वोत्तर के अन्य हिस्सों में परिस्थितियां ऐसी हैं कि विमान सुविधाएं पैदा करना जरूरी है। वैसे भी वायु सेना ने किसी नई हवाई पट्टी या हेलीपैड का निर्माण नहीं किया है, बल्कि समय के साथ संसाधनों के अभाव में निष्क्रय हो गई सुविधाओं को ही अद्यतन बनाया जा रहा है।

एयर मार्शल बारबोरा ने कहा कि पूर्वोत्तर में माचुका, विजयनगर, जिरो, तुतिंग आदि हवाई पट्टियों को आधुनिक बनाया जा रहा है जो प्रधानमंत्री की पहल पर की गई समग्र विकास योजना का हिस्सा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चीन ने भारतीय सीमा पर हवाई पट्टी को बनाया आधुनिक