DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जो गरजते हैं, वे बरसते नहीं

जो गरजते हैं, वे बरसते नहीं

बहुत समय पहले की बात है। रामपुर नाम का एक गांव था। वहां बहुत-से किसान रहते थे। वे सब खेती-बाड़ी का काम ही करते थे। उनके खेतों में रबी और खरीफ की फसलों में खूब अनाज होता था। बरसात होने से पहले ही वे अपने खेतों को तैयार करके बुवाई कर देते थे। फिर जब बरसात होती तो उनकी मेहनत रंग लाती और खेतों में फसलें लहलहाने लगतीं। किसान खेतों की निराई करते और फिर फसलें पकने पर उन्हें काटकर अपने खलिहानों में भर देते। इस तरह हर साल उनके खेतों में खूब अनाज होता था और वे सब खुश रहते थे।

यूं तो कुछ किसानों ने अपने खेतों में सिंचाई के लिए कुएं भी खुदवा रखे थे, लेकिन उन कुओं से काम नहीं चलता था। उनकी खेती मुख्यत: वर्षा पर ही निर्भर रहती थी। वर्षा पर्याप्त होने पर ही खेती अच्छी होती थी। इसलिए किसान अपने खेतों में बुवाई करके वर्षा का इंतजार करते रहते थे।

एक बार की बात है। किसानों ने अपने खेतों में बुवाई कर दी थी। वे सोच रहे थे कि हमेशा की तरह इस वर्ष भी वर्षा अच्छी होगी और उनके खेतों में फसलें भी अच्छी होंगी।  किसान यह सोचकर खुश थे कि फसलें अच्छी होने पर वे अपने घर की मरम्मत या बेटी का विवाह आदि मजे से करा लेंगे, इसलिए वे आसमान की तरफ ताकते रहते। किसान देखते कि आसमान में बादल छा जाते। वे सोचते कि वे अभी बरसेंगे, लेकिन फिर हवा चलती और बादल तितर-बितर हो जाते। यूं बीच-बीच में कभी-कभी मामूली वर्षा हो जाती, लेकिन उससे फसलों को कोई लाभ नहीं पहुंचने वाला था।


एक दिन की बात है। किसानों ने सुबह-सुबह ही उठकर देखा कि आसमान में बादल छाए हुए थे। वे जोर-जोर से गरज रहे थे। यह देखकर किसान बड़े खुश हुए कि आज तो जमकर वर्षा होगी और उनकी बोई हुई फसलों को पर्याप्त पानी मिल जएगा। लेकिन जब शाम तक बरसात नहीं हुई तो किसान सोचने लगे - यह क्या बात है। बादल तो खूब छाए हुए हैं, वे गरज भी रहे हैं, लेकिन बरस नहीं रहे हैं। तभी एक संन्यासी वहां आ निकले। किसानों ने उन्हें प्रणाम करके पूछा-महाराज ये बादल गरज तो रहे हैं, लेकिन बरस नहीं रहे हैं। ऐसा क्यों? संन्यासी बोले- ऐसा ही होता है।
मैं वर्षो से जगह-जगह घूमकर देखता हूं कि जो गरजते हैं, वे बरसते नहीं हैं। बस तभी से यह एक कहावत बन गई। फिर यह उन लोगों पर भी लागू होने लगी जो ज्यादा बोलते हैं, लेकिन काम नहीं करते।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जो गरजते हैं, वे बरसते नहीं