DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वीर योद्धा पृथ्वीराज चौहान

वीर योद्धा पृथ्वीराज चौहान

एनिमेशन फिल्मों की मुंह बोलती सफलता से प्रेरित होकर बॉलीवुड की अनेक कम्पनियों का रुझान इस क्षेत्र की ओर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। ‘पंगा गैंग’, ‘जम्बो’, ‘माई फ्रैंड गणोशा’, ‘दशावतार’, ‘चींटीचींटी बैंग-बैंग’ आदि काटरूनयुक्त फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर कामयाबी हासिल की थी। बाल दर्शकों की मांग को ध्यान में रख कर निर्माता शशिकांत  ने ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर आधारित एनिमेशन फिल्म ‘वीर योद्धा पृथ्वीराज चौहान’ का निर्माण किया है। इसके लेखक- निर्देशक राकेश प्रसाद हैं।

सेठिया ऑडियो वीडियो प्रा. लि. के बैनर तले निíमत एनिमेशन फिल्म ‘वीर योद्धा पृथ्वीराज चौहान’ में भारत के जंबाज शासक के व्यक्तित्व को रुपहले पर्दे पर उतारा गया है। दिल्ली के अंतिम राजपूत राज के रूप में पृथ्वीराज चौहान का नाम इतिहास में सम्मानपूर्वक आता है। मूवी में उनके बचपन से जुड़े बहादुरी के प्रसंगों को चित्रित किया गया है। प्रसंग के सभी दृश्य बड़े ही प्रेरणादायक हैं। आज के बालक-बालिकाओं को निडर बनने का संदेश देते हैं। एनिमेशन पात्रों से सुसज्जित इस मूवी का सबसे आकर्षक भाग है मुगल शासक मोहम्मद गौरी से युद्ध का। वह अफगानिस्तान के शहर गजनी का रहने वाला था।

जब उसने दिल्ली को अपने अधीन बनाने का सपना देखा तो इसकी सूचना महाराज तक पहुंची। उन्होंने स्वाधीन रहने का संकल्प दोहराया।  जब मोहम्मद गौरी ने युद्ध किया तो उसने पृथ्वीराज चौहान की बहादुरी देखकर दांतों तले अंगुली दबा ली। मैदान में पृथ्वीराज चौहान ने मोहम्मद गौरी के कई बार दांत खट्टे किए। इतिहास में हालांकि अंतिम युद्ध में वह पराजित हुए। मगर उनकी निडरता और बहादुरी के प्रसंग को फिल्म में दिखाया गया है।

दोस्तो, यह ऐतिहासिक एवं जीवंत जीवन पर आधारित मूवी है। इसलिए इसमें राज, महाराज, बादशाह, दुर्ग-गढ़, हाथी, घोड़े, ऊंट, तलवार, भाले, ढाल, महल, नगाड़े आदि काटरून पात्र आपको हलचल करते दिखेंगे। कहानी के अनुसार काटरून किरदारों की रचना की गई है। राजपूत दल में उस परिवेश और संस्कृति को दिखाया गया है। बादशाह की
सेना में वहां का वातावरण दर्शाया गया है।

निर्माता शशिकांत का कहना है, ‘हमारे देश में साहसिक कथाओं का भंडार है। पृथ्वीराज चौहान प्रेरणादायक व्यक्तित्व हैं। बच्चों को फिल्म से ज्ञान एवं मनोरंजन मिलेगा।’ मीडिया सोलुशंज ने एनिमेशन का श्रेष्ठ कार्य किया है। बापी-टुटुल का संगीत पक्ष मूवी में रोचकता भरने में सक्षम है। निकट भविष्य में यह रिलीज होगी, राजू कादरी रियाज। जब मोहम्मद गौरी ने युद्ध किया तो उसने पृथ्वीराज चौहान की बहादुरी देखकर दांतों तले अंगुली दबा ली। मैदान में पृथ्वीराज ने उसके कई बार दांत खट्टे किए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वीर योद्धा पृथ्वीराज चौहान