DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांवों में बिजली नहीं, सोलर बत्ती जलाने पर मिलेगा ईनाम

प्रदेश सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की अनुपलब्धता को देखते हुए सोलर होम लाइट को बढ़ावा देने का फैसला किया है। इसके लिए बैंकों के बीच ऋण की स्वीकृति के वास्ते आपसी प्रतिस्पर्धा बढ़ाने के लिए प्रोत्साहन योजना लागू की गई है।


नेडा की ओर से रविवार को दी गई जानकारी के मुताबिक प्रदेश में सभी ग्रामीण बैंकों ने सोलर होम लाइट लगाने के लिए ऋण स्वीकृत करने की सहमति दे दी है। इस साल एक लाख लोगों को सोलर होम लाइट लगाने के लिए बैंकों से ऋण उपलब्ध कराने का प्रयास है।


योजना के तहत जिस बैंक की शाखाएं सोलर होम लाइट के लिए वित्तपोषण ऋण स्वीकृति करने में अच्छा प्रदर्शन करेंगी उनमें से तीन सबसे अच्छा कार्य करने वाली शाखाओं को तीन लाख से लेकर दस लाख रुपए तक का नकद पुरस्कार दिया जाएगा। इसके अलावा जिस ग्राम सभा के तहत माइक्रो फाइनेन्सिंग के अन्तर्गत सोलर होम लाइट से सभी घर विद्युतीकृत हो जाएंगे, उन सभी ग्राम सभाओं को भी एक-एक लाख रुपए का नकद पुरस्कार दिया जाएगा। यदि गांवों में 75 प्रतिशत से अधिक लोग सोलर होम लाइट लगाते हैं तो पुरस्कार की धनराशि आनुपातिक रूप से कम कर दी जाएगी।


इस योजना के तहत गांवों में यदि बैंकों द्वारा प्रति वर्ष तीन हजार से छह हजार सोलर होमलाइट के लिए ऋण दिया जाएगा तो बैंक को क्षमता वृद्धि के लिए तीन लाख रुपए, जनता में जागरूकता पैदा करने के लिए 15 लाख रुपए, तीन सबसे अच्छी शाखाओं के लिए तीन लाख रुपए दिए जाएंगे। सॉफ्टवेयर विकसित करने और लाभार्थियों को प्रशिक्षण आदि देने के लिए दो-दो लाख रुपए दिए जाएंगे। 
ग्रामीण बैंकों द्वारा एक सोलर होम लाइट पर दस हजार रुपए का ऋण लगभग पांच प्रतिशत की आसान ब्याज दर पर स्वीकृत किया जाएगा जिसकी अदायगी 250 रुपए प्रतिमाह की दर से पांच साल में करनी होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गांवों में बिजली नहीं, सोलर बत्ती जलाने पर मिलेगा ईनाम