DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वर्षा कम होने से खेती प्रभावित

उत्तराखंड में इस वर्ष मानसून में वर्षा कम होने से खेती प्रभावित हुई है। कृषि विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार कम बारिश के कारण राज्य के जिलो में औसतन 30 से 50 प्रतिशत तक खेती प्रभावित हुई है। सूखे का सबसे ज्यादा असर टिहरी, रुद्रप्रयाग और ऊधमसिंह नगर में देखा गया। यहां गत वर्ष की तुलना में 60 से 70 प्रतिशत बारिश कम हुई है। जबकि अल्मोड़ा, बागेश्वर, चमोली, चम्पावत, देहरादून, पौडी, हरिद्वार, नैनीताल, पिथौरागढ और उत्तरकाशी में 5 से 50 प्रतिशत तक कम बारिश रिकार्ड की गई। पर्वतीय क्षेत्रो में जहां खेती पूरी तरह वर्षा पर निर्भर करती है वहां सूखे की स्थिति बन गई है। विभाग सूखे से हुए नुकसान का आंकलन कर रहा है।

मौसम विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य में इस वर्ष मानसून में 864.9 मिमी वर्षा हुई जब गत वर्ष 1223.1 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वर्षा कम होने से खेती प्रभावित