DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनाव कार्यालयों से गायब दिखी रंगत


चुनावी गहमा-गहमी,  हार-जीत के दांव-पेचों पर चर्चा, चाय-नाश्ते और मुफ्त की दावतों का दौर। कल तक जिन चुनाव कार्यालयों में देर रात तक चहलकदमी होती थी, चुनाव से एक दिन पहले वहां सन्नाटा पसरा नजर आया। प्रत्याशी तथा कार्यकर्ता गुणा-भाग कर जीत के आंकड़े फिट करते दिखे।

लाउडस्पीकरों की तेज आवाज तथा काफिलों की गहमागहमी भी गायब रही। कई कार्यालयों से तो दरियां तक सिमट चुकी थीं तथा कुर्सियां रिक्शों परं लादी जा रही थीं।  इनेलो कार्यालय, रेलवे रोड पर स्थित हजकां, बसपा, कांग्रेस कार्यालय में भी अन्य दिनों की तरह चहल-पहल नहीं थी, कार्यकर्ता इधर-उधर झुंड बनाकर मतों रुझान आदि की चर्चा में मशगूल रहे।

सुरक्षा के लिहाज पुलिस फोर्स ने तत्परता से कमर कस ली है। इलाके की नाकेबंदी की गई है। वोटरों की लिस्ट उठाए कार्यकर्ता मोहल्लों में घूमते दिखाई दिए। कई पार्टियों के कार्यकर्ता देर रात तक यह हिसाब लगाते रहे कि किस मोहल्ले से कौन सा मतदाता क्षेत्र से बाहर है ताकि उन्हें मतदान के लिए बुलाया जा सके। ग्रामीण जो सुबह होते ही चुनाव कार्यालयों में पहुंच जाया करते थे, सोमवार को अपनी गलियों के नुक्कड़ों पर चुनावी परिचर्चा में व्यस्त दिखाई दिए।

जम कर बंटी शराब: विधानसभा चुनाव के प्रचार प्रसार के बंद होते ही शाम को अनेकों प्रत्याशियाें ने मतदाताओं को अपने पक्ष में लाने के लिए जमकर शराब बांटी। मुफ्त की शराब लेने के लिए पार्टी प्रत्याशियों के कार्यालय पर भारी जमावड़ा दिखा। चुनाव आयोग के आदेशों के बाद शराब के ठेके मुख्य द्वार से बंद रहे, लेकिन पिछले दरवाजे से जमकर मुंह मांगे दामों पर शराब की बिक्री हुई। जिला पुलिस ने अनेकों स्थानों पर भारी मात्र में अवैध शराब को अपने कब्जे में किया।

पुलिस ने अनिल निवासी किलाजफर गढ़ को आबकारी अधिनियम व चुनाव आयोग के नोटिफिकेशन के उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किया। पुलिस ने आरोपी के कब्जे से 48 बोतल अवैध शराब बरामद की। इसी प्रकार भागसिंह निवासी करसिंधू के कब्जे से 2क्4, कुलदीप निवासी दबलैन के कब्जे से 14, सत्यवान निवासी अलेवा से 16, वेदप्रकाश, कर्मबीर निवासी बडनपुर के कब्जे से 144 बोतल बीयर व 312 बोतल शराब साहित गिरफ्तार किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चुनाव कार्यालयों से गायब दिखी रंगत