DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राहुल का गाँव जाना तो ठीक पर महिमामण्डन गलत : जयंत

' कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी कह रहे हैं कि नदियों को जोड़ा जाना गलत है पर मैं पूछता हूँ कि क्या यह विषय सार्वजनिक बयानबाजी का है। पर्यावरणीय बदलाव के इस दौर में जब एक ही मौसम में देश में कहीं सूखा तो कहीं भयंकर बाढ़ आ रही है, नदियों का जोड़ा जाना शायद फायदेमंद हो सकता है। यह विषय संसद में चर्चा करने का है, राष्ट्रीय नीति घोषित करने का है क्योंकि पिछली एनडीए सरकार ने बाकायदा विशेषज्ञों की समिति गठित कर उसकी संस्तुतियों के आधार पर यह फैसला किया था.’

राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय महासचिव व सांसद जयंत चौधरी ने सोमवार को यहाँ रवीन्द्रालय में आयोजित पार्टी के युवा कार्यकर्ताओं के सम्मेलन और फिर मीडिया से बातचीत में कई मसलों पर राहुल गांधी के तौरतरीकों की खूब आलोचना की।

उन्होंने कहा कि श्री गांधी का गाँवों में गरीब दलितों के घर जाना व रुकना अच्छी बात है पर इसका जिस तरह से महिमामंडन हो रहा है, उससे साफ लगता है कि यह कोशिश गरीबों के भले की नहीं बल्कि अपनी वीवीआईपी नेता और युवराज सरीखी इमेज को तोड़ने की है। गाँव व गरीब दलितों के घर में रहने को इस तरह से पेश किए जाने को दुर्भाग्यपूर्ण ही कहा जाएगा क्योंकि इससे साबित होता है कि वह बिना गाँवों को समङो-बूङो ही नेता बन गए।

उन्होंने कहा कि वे खुद सांसद बनने से पहले बरसों से गाँवों की चौपालों व गरीबों के घरों में आते-जाते रहे हैं, उनके सुख-दुख को अच्छी तरह से समझते रहे हैं पर यह कोई ढिंढोरा पीटने की बात नहीं। उन्होंने पार्टी के युवा कार्यकर्ताओं से ऐसी प्रवृत्तियों से बचने को कहा।

श्री चौधरी ने कहा कि समाज व व्यवस्थाओं में बदलाव तभी आएगा जब राजनीतिक कार्यकर्ता सही मायनों में जनता से जुड़ेंगे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय लोकदल अब पूरे प्रदेश में अपना आधार बनाएगी। वह खुद 15 को जौनपुर और 31 अक्टूबर को सिद्धार्थनगर में कार्यकर्ताओं के बीच जा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राहुल का गाँव जाना तो ठीक पर महिमामण्डन गलत : जयंत