DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बम फेंकने के आरोपी शहाबुद्दीन के सहयोगी को 10 साल की सजा

फास्ट ट्रैक कोर्ट के अपर न्यायायुक्त नलिन कुमार की अदालत ने सीवान के अधिवक्ता परिवार पर बम फेंकने के आरोपी ठाकुर सिंहेश्वर कुमार को 10 साल की सजा और 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। आरोपी को धारा 307 के तहत भी 10 साल के कारावास की सजा सुनाई गई है। सरकार की ओर से विशेष लोक अभियोजक  प्रदीप कुमार तिवारी ने और बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता अजय कुमार ने दलील पेश की।

विशेष लोक अभियोजक ने बताया कि सीवान के अधिवक्ता नौ फरवरी 1999 की सुबह 6.45 बजे अपने दो पुत्रों अमित राज वर्धन और रोहित राज वर्धन के साथ गार्डेन में बैठकर चाय पी रहे थे। इसी बीच ठाकुर सिंहेश्वर मोटसाइकिल से आया और बम फेंक दिया। इसमें तीनों बाल-बाल बच गए, लेकिन घर की खिड़की में लगे शीशे और दीवार टूट गई। इसके बाद अधिवक्ता ने ठाकुर के खिलाफ टाउन थाना में 3/4 विस्फोटक अधिनियम और भादवि की धारा 307 के मामला दर्ज कराया।

चूंकि सीवान के कोर्ट में मामले का ठीक तरह से निष्पादन नहीं हो रहा था। अपराधियों ने अधिवक्ता और उनकी पत्नी की हत्या कर दी थी। इसलिए अधिवक्ता पुत्रों ने सुप्रीम कोर्ट में आवेदन देकर मामले को रांची में चलाने का आग्रह किया। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश रांची के कोर्ट में सेशन ट्रायल 18/2002 शुरू हुआ। ठाकुर को इससे पहले भी कोर्ट ने अधिवक्ता के बड़े पुत्र सुनीत की हत्या के आरोप में आजीवन कारावास की सजा सुनाई जा चुकी है और वह होटवार स्थित केंद्रीय कारा में बंद है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शहाबुद्दीन के सहयोगी को 10 साल की सजा