DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस साल वेतन वृद्धि आठ प्रतिशत रहेगी

इस साल वेतन वृद्धि आठ प्रतिशत रहेगी

भारतीय कंपनियों द्वारा इस साल अपने कर्मचारियों के वेतन में औसतन आठ प्रतिशत की बढ़ोतरी की जाएगी साथ ही करीब 50 प्रतिशत कंपनियों ने अगले महीनों में अच्छी खासी संख्या में नयी नियुक्तियां कर सकती हैं। वैश्विक मानव संसाधन परामर्शक मर्सर के सर्वेक्षण में सोमवार को यह जानकारी देते हुए कहा गया है कि अगले वर्ष कंपनी जगत औसतन 11 प्रतिशत तक वेतन वृद्धि कर सकता है।

मर्सर के इंडिया मानिटर तिमाही सर्वेक्षण में 2010 के लिए भी काफी सकारात्मक रुख दर्शाया गया है। सर्वेक्षण में कहा गया है कि 2010 में भारत में वेतन वृद्धि की औसत दर 10. 9 प्रतिशत रहेगी। मर्सर सूचना उत्पाद साल्यूशंस कारोबार भारत के लीडर गंगाप्रिया चक्रवर्ती ने कहा कि पिछले साल आर्थिक वृद्धि दर कई बरसों की सबसे कम रही है, इसके बावजूद अर्थव्यवस्था के इस साल छह प्रतिशत से ज्यादा की दर से बढ़ने की उम्मीद है। 2009 में उद्योग जगत में औसतन वेतन वृद्धि आठ प्रतिशत रहेगी।
   
चक्रवर्ती ने कहा कि 2010 में इस साल के आठ प्रतिशत की तुलना में वेतन वृद्धि की औसत दर 10. 9 फीसद रहेगी। ज्यादातर क्षेत्रों द्वारा अगले साल दस प्रतिशत से ज्यादा की वृद्धि का अनुमान लगाया गया है। सर्वेक्षण में कहा गया है कि कर्मचारियों को लेकर ज्यादातर कंपनियों ने आगामी महीनों के लिए आशावादी तस्वीर पेश की है। 50 प्रतिशत कंपनियों ने कहा है कि वे अगले तीन महीनों में नियुक्तियां करेंगी।

अगर विभिन्न क्षेत्रों की बात की जाए तो आईटी क्षेत्र में स्थिति अब सुधरती नजर आ रही है। पिछले एक साल के दौरान आईटी क्षेत्र में वेतन वृद्धि की दर शून्य रही है। सर्वेक्षण में कहा गया है कि आईटी क्षेत्र में अगले साल वेतन में कुछ प्रतिशत की वृद्धि हो सकती है।
     
सर्वेक्षण में कहा गया है कि आर्थिक मंदी के बावजूद इस साल कई कंपनियों ने अच्छी-खासी वेतन वृद्धि की है। रपट में बताया गया है कि फार्मा, उपभोक्ता और विनिर्माण क्षेत्र में वेतन वृद्धि सात प्रतिशत से ज्यादा रही है।
      
वाहन और वाहन कलपुर्जा उद्योग ने इस साल वेतन में उल्लेखनीय वृद्धि की है। मंदी का सबसे ज्यादा असर आईटी उद्योग पर देखने को मिला है। आईटी क्षेत्र में वेतन वृद्धि की दर शून्य रही है। लेकिन दूरसंचार क्षेत्र में वेतन वृद्धि की दर ठीकठाक रहने से कुछ राहत मिली है। इसके चलते हाईटेक क्षेत्र में वेतन वृद्धि की औसतन दर पांच प्रतिशत पर पहुंच गई है।
     
रसायन क्षेत्र में भी वेतन वृद्धि उल्लेखनीय रही है। उर्जा क्षेत्र का एख निराशाजनक रहा है। उर्जा क्षेत्र की कंपनियों ने सामान्य से कम वेतन बढ़ोतरी की है, जबकि कुछ कंपनियों ने वेतन वृद्धि को टाल दिया है।
     
नियुक्ति की बात की जाए तो फार्मा, रसायन और आईटी क्षेत्र की 50 प्रतिशत से ज्यादा कंपनियों ने अपने कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने का संकेत दिया है। हालांकि, विनिर्माण और फार्मा क्षेत्र की कुछ कंपनियों ने आगामी तीन महीनों में कर्मचारियों की संख्या घटाने का संकेत दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इस साल वेतन वृद्धि आठ प्रतिशत रहेगी