DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाषाओं का ट्यूटर इंटरनेट

भाषाओं का ट्यूटर इंटरनेट

रश्मि को स्पेनिश बिल्कुल नहीं आती थी, लेकिन चैटिंग करते-करते ही वह इतनी स्पेनिश सीख चुकी है कि वह जरूरत पड़ने पर इस भाषा में ही बोलकर अपने कई सारे काम कर सकती है। ‘बेवजह चैटिंग से चिपके रहने से अच्छा मुझे यह लगा कि कुछ सीखा जाए और फिर मैंने अपने स्पेनिश दोस्तों की मदद से इसके लिए कोशिश शुरू कर दी।’ वह बताती हैं।

कोई शक नहीं कि आज इंटरनेट न सिर्फ मनोरंजन, बल्कि तरह-तरह की जानकारी विकसित करने का भी प्रमुख साधन बन गया है। पर इससे भी एक कदम आगे बढ़कर इंटरनेट अब कोई नई भाषा सीखने का भी माध्यम बन गया है।

असल में इंटरनेट सोशल नेटवर्किग का एक बड़ा माध्यम बन गया है और इसके कारण अब देश-विदेश के लोगों से संपर्क बनाना काफी आसान हो गया है। अब चूंकि वे अलग-अलग भाषाओं के होते हैं, इसलिए यदि पूरी तरह से संभव नहीं भी हो तो आंशिक रूप से ही उनकी भाषाओं की जानकारी होने ही लगती है। और यदि कोई चाहे तो वह अपने संपर्क के आधार पर ही किसी खास भाषा को बेहतर ढंग से भी सीख सकता है।

इंटरनेट पर भाषा सीखने से संबंधित तमाम वेबसाइट भी मौजूद हैं। उनकी मदद से भी किसी भाषा के बारे में जनकारी प्राप्त करना आसान हो जाता है। इसके लिए गूगल पर उस भाषा का नाम लिखने से ही तमाम संबंधित साइटें सामने आ जाती हैं। 

भाषा सीखने के लिए इंटरनेट का कितना बेहतर इस्तेमाल हो सकता है, इसका बेहतरीन उदाहरण पेश किया है दक्षिण कोरिया ने, जहां पूरा देश ही अंग्रेजी सीखने के लिए इंटरनेट को अपना साथी बना चुका है। गौरतलब है कि विश्व के आर्थिक परिदृश्य में अपनी स्थित को मजबूत बनाने के लिए दक्षिण कोरियाई अंग्रेजी सीखने पर काफी बल दे रहे हैं और इंटरनेट के माध्यम से उन्हें काफी मदद मिल रही है। इसमें छोटे बच्चों से लेकर किसी जॉब के इंटरव्यू की तैयारी कर रहे युवा भी शामिल हैं।

लिखित अंग्रेजी के अलावा कैमरे की मदद से चैटिंग के द्वारा भाषा के उच्चरण को भी सही करने में इंटरनेट के माध्यम से काफी मदद मिल रही है। ऐसे में पूरी भाषा भले ही न समझ में आए, पर उसका ज्ञान तो हो ही जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भाषाओं का ट्यूटर इंटरनेट