DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खाद और बीज बांटने में भी होगी पर्ची व्यवस्था

धान खरीद के बाद राज्य सरकार खाद और बीज वितरण में भी  पर्ची (टोकन) व्यवस्था लागू करने की तैयारी में है। सूत्रों के अनुसार धान की फर्जी खरीद और सार्वजनिक वितरण प्रणाली की योजनाओं के अनाज की रिसाइकिलिंग पर अंकुश लगाने की गरज से शुरू की जा रही पर्ची व्यवस्था का प्रयोग अगर कामयाब रहा तो जल्दी ही किसानों को खाद और बीज वितरण में भी  यही व्यवस्था होगी। 

राज्य सरकार ने खरीद केन्द्रों किसानों को लंबी-लंबी लाइनों से बचाने के लिए उन्हें पर्ची देने का फैसला लिया है। यह व्यवस्था अभी मूर्त रूप नहीं ले सकी है, लेकिन मुख्य सचिव द्वारा दिए गए टाइम टेबिल के अनुसार 21 अक्टूबर से किसानों का धान पर्ची से आना शुरू हो जाएगा। 11 से 14 अक्टूबर के बीच पर्चियां छपनी है और 15 से 20 अक्टूबर के बीच गांवों में खुली बैठक कर बांटी जाएंगी।

जानकारों के मुताबिक पर्ची व्यवस्था लागू का दूरगामी असर पूरी सार्वजनिक वितरण प्रणाली पर पड़ेगा। लघु, सीमान्त और बड़े किसानों को अलग-अलग रंग की मिलने वाली पर्ची पर खरीद केन्द्र का नाम, तारीख के साथ उपज की मात्र अंकित होगी। जिससे खरीद के फर्जी आंकड़ों पर रोक लगेगी साथ ही किसानों के अलावा सार्वजनिक वितरण प्रणाली की योजनाओं का अनाज वापस सरकारी खरीद में लेना आसान नहीं होगा।

तमाम जिला अधिकारियों ने खुद आला अफसरों से पर्ची सिस्टम से खाद और बीज का वितरण कराने के लिए कहा है। उनका मानना है कि काला बाजारी रोकने और वितरण व्यवस्था में सुधार के लिए यह सिस्टम मुफीद साबित होगा। जिलाधिकारियों के प्रस्ताव को शासन ने सैद्धान्तिक तौर पर सहमति दे दी है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खाद और बीज बांटने में भी होगी पर्ची व्यवस्था