DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेल से ही चुनाव जीते कामेश्वर बैठा

झामुमो प्रत्याशी कामेश्वर बैठा ने पलामू लोस सीट से अपने निकटतम प्रतिद्वंदी राजद के घूरन राम को 23, 538 मतों से पराजित किया। कामेश्वर बैठा को कुल 1,67,मत प्राप्त हुए। जबकि घूरन राम को 1,44,456 मत मिले। झामुमो प्रत्याशी कामेश्वर बैठा सासाराम जेल में हैं और वे जेल से ही चुनाव जीते हैं। यहां बताते चलें कि पलामू में झामुमो का कभी कोई जनाधार नहीं रहा। कामेश्वर बैठा ने पूर्व में वर्ष 2007 में बसपा की टिकट पर पलामू लोस के लिए उपचुनाव लड़ा था। उस समय वह घूरन राम से चुनाव हार गये थे। उस समय उन्होंने 1.44 लाख मत प्राप्त किया था। सुदर्शन-चमरा लिंडा में हुई कांटे की टक्करसंवाददाता गुमला भाजपा ने एक बार फिर लोहरदगा की अपनी खोयी जमीन पर कब्जा कर लिया है। भाजपा के सुदर्शन भगत को आदिवासी छात्र संघ के प्रत्याशी चमरा लिंडा ने यहां चुनावी मुकाबले में कड़ी टक्कर दी। वहीं पिछली बार भारी मतों से जीते मंत्री रामेश्वर उरांव को इस बार तीसर स्थान पर संतोष करना पड़ा। सुदर्शन भगत ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी आछासं सुप्रीमो चमरा लिंडा को 8261 मतों से हराया। वहीं झाविमो सहित 12 प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गयी। भगत को 144605 मत प्राप्त हुए। चमरा लिंडा और कांग्रेस के डॉ रामेश्वर उरांव को क्रमश: 136344 और 120 वोट मिले। झाजमं प्रत्याशी रांची की महापौर रमा खलखो 3221मतों के साथ चौथे स्थान पर रहीं।ड्ढr सबसे गहरा सदमा जेवीएम के डॉ बहुरा एक्का को लगा, वे महा 147वोट ही बटोर पाये। डा. एक्का की तुृलना में आजसू के डा. देवशरण भगत ने बेहतर प्रदर्शन करते हुए 16612 वोट हासिल किये। बसमो के नवल सिंह खेरवार को 4030, बसपा के जोखन भगत को 12120, लोजविमो के भुवनेश्वर लोहरा को 3658, निर्दलीय जयप्रकाश भगत और अजरुन भगत को क्रमश: 317व 27मत हासिल हुए। वहीं निर्दलीय सुषमा बड़ाईक को 4432, निर्दलीय सुखदेव लोहरा को 11422, निर्दलीय एतवा उरांव को 3117 और 32मत हासिल हुए।23 राउंड में हुआ यशवंत के भाग्य का फैसला कार्यालय हाारीबाग 15वीं लोकसभा के लिए हाारीबाग संसदीय सीट से भाजपा प्रत्याशी एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा 40 हाार 164 मतों ंसे विजयी घोषित हुए। सिन्हा को इस चुनाव में कुल 2,10 मत मिले, जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस के सौरभ नारायण सिंह को 17मत मिले। जीत की विधिवत घोषणा के बाद जिला निर्वाची पदाधिकारी सह डीसी विनय कुमार चौबे ने यशवंत सिन्हा को जीत का प्रमाण पत्र दिया। 23 राउंड में पांच विधानसभा क्षेत्रों की हुई मतगणना में बसपा के किशोर कुमार पांडेय को 12506, निवर्तमान सांसद भुवनेश्वर प्रसाद मेहता को 53785, भाजपा के यशवंत सिन्हा को 210, झामुमो के शिवलाल महतो को 5302, कांग्रेस के सौरभ नारायण सिंह को 17आजसू के चंद्रप्रकाश चौधरी को 86880, समाजवादी पार्टी के दिगंबर मेहता को 6533, झाविमो के ब्रजकिशोर जायसवाल को 43745, निर्दलीय देवनाथ महतो को 4622, महेंद्र किशोर मेहता को 482मो.मोइउद्दीन अहमद को 538ललन प्रसाद को 55नेहलता देवी को 13701 वोट मिले। इस चुनाव में कुल वैध वोट 60पड़े। इसमें 15 वोट रद्द घोषित हुए।11 में से नौ प्रत्याशियों की जमानत राशि जब्तसंवाददाता चतरा चतरा लोस क्षेत्र के 11 में से नौ प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गयी। सिर्फ कांग्रेस प्रत्याशी ही अपनी जमानत बचा पाया। जमानत बचाने के लिए 7,5831 वोट प्रत्याशियों को लाना था। नामधारी को कुल 1,08,336 मत और धीरा प्रसाद साहू को वोट मिले। तीसर स्थान पर नागमणि रहे, इन्हें 68,764 वोट मिले। चौथे स्थान पर भाकपा माले के केश्वर यादव को 63,846 वोट मिले।ड्ढr इसके अलावा जदयू के अरुण कुमार यादव को 46,088, झाविमो के केपी शर्मा को 33,718, बसपा के सुगन महतो को 16,408, धीरंद्र अग्रवाल को 15,5निर्दलीय रत्नेश कुमार गुप्ता को 15,515, झापा के सुरंद्र यादव को 6,845 और पारसनाथ मांझी को कुल 6,678 वोट मिले।पहले ही राउंड से आगे रहे कड़िया मुंडाहिन्दुस्तान ब्यूरो रांची खूंटी लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी कड़िया मुंडा विजयी हुए हैं। मुंडा को कुल 210214 और कांग्रेस प्रत्याशी नियेल तिर्की को कुल 13003वोट मिले। कड़िया मुंडा कांग्रेस प्रत्याशी से 80 हाार 175 के अंतर मतों से चुनाव जीते हैं। 16 मई को बिरसा कॉलेज खूंटी में बनाये गये मतगणना केंद्र में मतों की गिनती सुबह में डेढ़ घंटे विलंब से 0 बजे शुरू हुई। 18 राउंड की काउंटिंग में शुरू से ही कड़िया मुंडा ने बढ़त बना रखी थी। पहले राउंड में ही उन्होंने पांच हाार से अधिक मतों की बढ़त बना ली थी।ड्ढr इससे पूर्व सवेर साढ़े आठ बजे से पहले पोस्टल वोट की गिनती शुरू हुई। 18 पोस्टल वोट में नौ कांग्रेस के खाते में और पांच भाजपा के खाते में गया। वहीं दो सीट जेवीएम को और एक वोट बसपा के मार्शल बाड़ा को मिला। ईवीएम की काउंटिंग का काम सबेर 00 बजे शुरू हुआ, जो शाम के पांच बजे तक चला। वैसे पहले राउंड में ही कड़िया की बढ़त को देखते हुए कार्यकर्ताओं ने आतिशबाजी शुरू कर दी थी। दोपहर एक बजे 11 वें राउंड की गिनती में जब कड़िया मुंडा 31 हाार वोट से आगे चल रहे थे, उसी समय से भाजपा समर्थकों ने एक-दूसर को रंग-गुलाल लगाना और मिठाइयां बांटना शुरू कर दिया था। झारखंड के चुनाव परिणाम के मायनेचंदन मिश्र रांची झारखंड का चुनाव परिणाम एकदम प्रत्याशित रहा। चुनाव के बाद सार आंकलन-अनुमान खर उतर। यूपीए को भारी नुकसान झेलना पड़ा, भाजपा का परचम लहराया। भाजपा ने आठ सीटें जीतकर दमदार प्रदर्शन किया। कांग्रेस को नुकसान उठाना पड़ा। छह में से बमुश्किल एक सीट बच पायी। झारखंड में राजद का खाता बंद हो गया। लालू प्रसाद की पार्टी यहां औंधे मुंह गिरी। झामुमो की भी राजनीतिक जमीन खिसकी है।ड्ढr गुरुाी ने झामुमो की लाज बचा ली। दुमका से वह जीत गये। बिहार के सासाराम में बंद पलामू से हार्डकोर नक्सली कामेश्वर बैठा जीते। झामुमो के खाते में एक और सीट की बढ़ोत्तरी हुई। निर्दलीय उम्मीदवारों में इंदर सिंह नामधारी, और मधु कोड़ा जीते। झाविमो से एकमात्र सीट बाबूलाल मरांडी जीते।ड्ढr यूपीए का अंतर्कलह हार का मुख्य कारण बना। कांग्रेस, झामुमो और राजद के बीच सीटों को लेकर कोई तालमेल नहीं हो सका। सीटों के बंटवार में भी किसी ने किसी की नहीं सुनी। अपनी मराी के मुताबिक दलों ने उम्मीदवार उतार। झारखंड में राजद और लोजपा का तालमेल कोई काम न आया। पलामू और चतरा सीटें राजद को गंवानी पड़ी। कांग्रेस और झामुमो से पंगा महंगा पड़ा। यूपीए के पुराने साथी आपस में ही गुत्थम-गुत्था हुए। झारखंड में यूपीए सरकार की नाकामी का भी असर पड़ा। कांग्रेस और राजद की वजह से सरकार बदलने के खेल ने भी यूपीए की हार का कारक बना। दो साल से यूपीए ने झारखंड में सरकार के नाम पर खिलवाड़ ही किया। मतदाताओं पर कहीं न कहीं इसका असर पड़ा। झामुमो को भी इसका खामियाजा भुगतान पड़ा। चार में से किसी तरह दो सीटें बच पायी।ड्ढr भाजपा राज्य में एकाुट होकर चुनाव लड़ी। नये-पुराने चेहरों को नेतृत्व ने उतारा और उसके कई प्रयोग सफल रहे। कई जगह उम्मीदवार बदले गये। जदयू के साथ भाजपा की खटपट खूब हुई, जिसकी वजह से भाजपा के खाते से पलामू सीट जाती रही। पलामू और चतरा समझौते में जदयू के खाते में गया। जदयू दोनों सीटों से हार गया। कोडरमा-बरकट्टा विस में मिली बढ़त से जीते मरांडीसंवाददाता कोडरमा कोडरमा संसदीय सीट पर झाविमो उम्मीदवार बाबूलाल मरांडी 48, 520 वोटों से विजयी हुए। उन्हें एक लाख हाार 462 वोट मिले। दूसर स्थान पर रहे भाकपा माले के राजकुमार यादव को एक लाख 50,और तीसर स्थान पर रहे भाजपा के लक्ष्मण स्वर्णकार को करीब एक लाख 14,700 मत मिले। मरांडी को कोडरमा विधानसभा क्षेत्र में 3हाार, भाकपा माले को 15 हाार, भाजपा को 22-23 हाार, राजद को 2हाार मत मिले। राजधनवार विधानसभा क्षेत्र में मरांडी को 50 हाार और राजकुमार यादव को 37 हाार 0, वोट मिले। बगोदर विधानसभा क्षेत्र में मरांडी को करीब 27 हाार और यादव को 53 हाार वोट मिले।ड्ढr वहीं बरकट्ठा विधानसभा क्षेत्र में मरांडी को 2हाार, माले को आठ हाार, भाजपा को 31 हाार और राजद को 20 हाार के आसपास मत मिले। गांडेय और जमुआ विधानसभा क्षेत्र में माले को करीब 20-20 हाार वोट मिले।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जेल से ही चुनाव जीते कामेश्वर बैठा