DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रचार के आखिरी दिन सभी दलों ने झोंकी ताकत

हरियाणा विधान सभा की नब्बे सीटों के लिए 13 अक्तूबर को होने वाले मतदान के लिए रविवार शाम प्रचार बन्द हो गया। इस चुनाव में 1222 उम्मीदवार अपना भाग्य आज़माने जा रहे हैं। इनेलो और शिरोमणि अकाली दल को छोड़कर बाकी राजनीतिक दलों ने चुनावी समझौता टूटने अथवा सिरे न चढ़ पाने पर इस बार चुनाव में अकेले ही उतरने को तरजीह दी है। बसपा, हजकां और भाजपा ने सभी सीटों पर अपने उम्मीदवार चुनाव में उतारे हैं। शिरोमणि अकाली दल ने दो सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं।

इनेलो प्रमुख व पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला इस बार फिर दो जगहों से मैदान में हैं, लेकिन इस बार दोनों ही सीटें नई हैं। सिरसा ज़िले में उनकी सीट रोड़ी के परिसीमन के कारण खत्म हो जाने की वजह से जहां वे ज़िले की ऐलनाबाद सीट पर उम्मीदवार हैं वहीं नरवाना के सुरक्षित घोषित हो जाने के कारण अब वे उसी के बगल की सीट उचाना से भी चुनाव लड़ रहे हैं। यह सीट पारम्परिक  से निवर्तमान वित्त मंत्री बीरेन्द्र सिहं का हलका रहा है।

परिसीमन के कारण इस बार कई पार्टियों के उम्मीदवारों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। इसी कारण जहां कई लोगों के टिकट कट गए वहीं कइयों को अपना हलका छोड़ कर दूसरी जगहों से टिकट लेना पड़ा है।
निर्वाचन आयोग के मुताबिक राज्य में 1,31,13,011 मतदाता हैं। इनमें से 59,35,711 महिला मतदाता और पुरुष मतदाताओं की संख्या 70 लाख 89 हजार 344 है।

राज्य निर्वाचन कार्यालय के अनुसार राज्य में मतदान शांतिपूर्ण, स्वतंत्र तथा निष्पक्ष कराने के लिए कुल 13 हजार 524 मतदान केन्द्र स्थापित किए गए हैं जहां मतदान सुबह सात बजे से शाम पांच बजे तक इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों से कराया जाएगा। प्रदेश में 2517 संवेदनशील तथा 262 अति संवेदनशील मतदान केन्द्र चिन्हित किए गए हैं।

इन चुनावों में राजनीतिक किस्मत आजमा रहे प्रमुख उम्मीदवारों में मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा, पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला, कांग्रेस अध्यक्ष फूलचंद मुलाना, पूर्व क्रिकेटर योगराज, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष रणवीर महेन्द्रा, वित्तमंत्री बीरेन्द्र सिंह, किरण चौधरी, मोहिंदर सिंह चट्ठा, कैप्टन अजय सिंह, भजनलाल की पत्नी जसमां देवी तथा उनके पुत्र एवं हरियाणा जनहित कांग्रेस के अध्यक्ष कुलदीप बिश्नोई, भाजपा के अध्यक्ष कृष्णपाल गुर्जर, कई मंत्री-विधायक, पूर्व वित्तमंत्री संपत सिंह, युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष संजय छोंकर सहित पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटला के दोनों पुत्र अजय सिंह चौटाला और अभय सिंह चौटाला हैं।

राज्य में स्टार प्रचारकों सहित राष्ट्रीय तथा राज्य स्तर के नेताओं और कई मुख्यमंत्रियों ने अपने-अपने दल के समर्थन में चुनाव प्रचार किया। सोनिया गांधी ने चुनाव प्रचार के अंतिम दिन झज्जर में चुनाव रैली को संबोधित किया। उनके अलावा प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह, राहुल गांधी, लालकृष्ण आडवाणी, राजनाथ सिंह, वेंकैया नायडु, सुषमा स्वराज, हिमाचल के मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह सहित अनेक नेताओं ने चुनाव प्रचार में भाग लिया।

हजकां के प्रत्याशियों की प्रचार की कमान पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल तथा उनके पुत्र कुलदीप बिश्नोई ने संभाली। सत्तारूढ़ कांग्रेस लोकसभा चुनाव के परिणामों से उत्साहित होकर सत्ता वापसी की उम्मीद के साथ विकास के नाम पर तथा विपक्षी दलों ने मंहगाई, बिजली पानी का अभाव, कानून व्यवस्था की लचर स्थिति जैसे मुद्दों को हथियार बनाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रचार के आखिरी दिन सभी दलों ने झोंकी ताकत