DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निरस्त्रीकरण का अस्त्र

जिन प्रयासों के लिए बराक ओबामा को शांति का नोबेल पुरस्कार मिला है, उसके गुलदस्ते में भारत के लिए कुछ कांटे भी हैं। यह कांटा उनके उस पत्र का है, जो उन्होंने नोबेल घोषित होने के कुछ घंटे पहले अमेरिकी कांग्रेस को लिख कर  कहा था कि उनका प्रशासन कुछ देशों के साथ मिल कर भारत के परमाणु हथियार कार्यक्रम का समर्थन न करने के लिए काम कर रहा है। उनके इस पत्र को एक तरफ भारत और अमेरिका परमाणु करार की औपचारिक प्रक्रिया के रूप में देखा जा रहा है। तो दूसरी तरफ इसे डेमोक्रेट राजनेताओं की निरस्त्रीकरण नीति की स्थायी चुभन के रूप में लिया जा रहा है। 

दरअसल भारत-अमेरिका परमाणु करार के तहत राष्ट्रपति हर छह महीने पर अमेरिकी कांग्रेस को यह बताता रहेगा कि भारत को यूरेनियम संवर्धन और प्रयुक्त ईंधन के पुनशरेधन संबंधी कोई प्रौद्योगिकी नहीं पहुंच रही है। यह समझौता अमेरिका में जिस रूप में अपनाया गया है, उससे स्पष्ट है कि अमेरिका और न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप लगातार यह कोशिश करते रहेंगे कि भारत की नाभिकीय हथियार की क्षमताएं बढ़ने न पाएं।
   
समझौते के इस असर के बारे में पहले भी चर्चाएं हुई थीं, लेकिन तब कहा गया था कि यह महज औपचारिकता होगी। भारत शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए परमाणु ऊर्जा का उत्पादन भी करता रहेगा और अपनी सुरक्षा का इंतजाम भी करता रहेगा। उस समय रिपब्लिकन राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश का भारत के प्रति जैसा उदार रवैया दिख रहा था, उससे लगता था कि अमेरिकी राष्ट्रपति का प्रमाण-पत्र महज औपचारिकता होगी। लेकिन  ओबामा के रवैए को देखते हुए लग रहा है कि भारत को यह थपेड़ा हर साल ङोलना पड़ेगा। इसे कुछ विशेषज्ञ परमाणु करार की कमी के रूप में भी देख रहे हैं। 

हाल में एनपीटी पर हस्ताक्षर संबंधी उनके बयान पर भी भारत ने अपना रुख स्पष्ट किया और फिर उन्होंने भारत को आश्वस्त किया था। सवाल उठता है कि इसी तरह का परमाणु समझौता चीन से होने के बावजूद अमेरिका उसकी नाभिकीय महत्वाकांक्षाओं को बारे में कुछ क्यों नहीं कहता? क्या उसका मान्यता प्राप्त नाभिकीय देश होना ही उसे एटमी हथियारों के प्रदर्शन और संवर्धन की छूट दे देता है? लेकिन पाकिस्तान तो मान्यता प्राप्त नहीं है, फिर उसके बारे में नरमी क्यों? जाहिर है, अगर ओबामा निरस्त्रीकरण की नीति में भेदभाव बनाए रखेंगे तो इससे उनका और पूरी दुनिया का शांति का उद्देश्य बाधित होगा।   

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:निरस्त्रीकरण का अस्त्र