DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कॉमर्शियल गैस से भरे गोदाम, घरेलू गायब

कॉमर्शियल गैस को बेचना गैस एजेंसियों के लिए भारी साबित हो रहा है। ग्राहक नहीं होने से गोदामों में कॉमर्शियल गैस के अंबार लगे हुए हैं और घरेलू गैस गायब हो रही है। सस्ती होने के कारण होटलों, ढाबों के बाद अब गैस वैल्डिंग वाले भी घरेलू गैस के सिलेंडरों का इस्तेमाल कर रहे हैं।


शादी-ब्याह, होटल, ढाबों, रेस्टोरेंट आदि में घरेलू गैस की बजाय कॉमर्शियल गैस के सिलेंडर दिए जाने की व्यवस्था है। 19 किलो वजन वाले इस सिलेंडर का मूल्य 14 किलो वाले घरेलू सिलेंडर के मुकाबले दो गुने से अधिक होता है। महंगा होने के बाद भी ज्यादा गैस नहीं मिलने के कारण लोग घरेलू गैस का प्रयोग करते हैं। घरेलू गैस का उपयोग वाहनों में भी धड़ल्ले से किया जा रहा है। कुछ लोग सीधे घरेलू सिलेंडर ही गाड़ी में लगाकर वाहन चलाते हैं। पर अब अधिकांश लोग एक उपकरण के जरिए घरेलू गैस सिलेंडर से सीधे वाहन की टंकी में गैस पहुंचा देते हैं। इसके अलावा गैस वैल्डिंग करने वाले भी घरेलू गैस का इस्तेमाल करने लगे हैं। इस कारण एजेंसियों के गोदामों में कॉमर्शियल सिलेंडर भरे पड़े हैं और घरेलू गैस गायब हो रही है। जिले की 49 गैस एजेंसियों पर करीब 250 कॉमर्शियल गैस सिलेंडर ग्राहकों की राह जोह रहे हैं। त्योहारों के मौके पर घरेलू गैस की डिमांड वैसे ही बढ़ गई है। एजेंसी मालिक भी कॉमर्शियल गैस के बढ़ते बोझ से परेशान हो गए हैं। लेकिन मजबूरी में जुबान नहीं खोल रहे। गैस कंपनियों के अफसरों का कहना है कि कॉमर्शियल गैस का अधिक से अधिक प्रयोग बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कॉमर्शियल गैस से भरे गोदाम, घरेलू गायब