DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैप्टन ने कूड़े पर उगा दिए फूल

ग्लाइडर पायलेट एवं वायु सेना से सेवानिवृत्त कैप्टन सुरेश कुमार कपिल के प्रकृति से लगाव ने फरीदाबाद के एक सेक्टर के खाली पड़े एक एकड प्लॉट पर खास तरह की हरियाली ला दी है। कभी यहां कूड़े का ढेर हुआ करता था। उनके प्रयासों से अब यहां 82 किस्म के हर्बल पौधे गजब की छटा बिखेर रहे हैं। यही नहीं इस भूखंड को पार्क का रुप दे दिया गया है। जहां जागिंग, फाउंटेन, झूले, बैंडमिंटन का मजा लेने वालों का जमावड़ा लगा रहता है। कैप्टन के प्रयास से ही इस सेक्टर से जलभराव की समस्या भी खत्म हो गई है। पहले हल्की बारिश में ही सेक्टर तालाब में बदल जाता था।


सेक्टर 9 के करीब 65 वर्षीय कैप्टन सुरेश कुमार कपिल सामाजिक गतिविधियों से लगभाग तीन दशकों से जुड़े हैं। उन्होंने छतरपुर मंदिर, फरीदाबाद के सेक्टर 7 के मंदिर को संवारने में अहम रोल अदा किया है। उनके प्रयासों से ही सेक्टर का हर्बल पार्क व नैचुरल हार्वेस्टिंग सिस्टम लोगों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। सेक्टर 9 के नितिन शर्मा कहते हैं..अंकल कोशिश नहीं करते तो हमें अब भी कूड़े की बदबू ङोलनी पड़ती। 


 सुरेश हर्बल पार्क की स्थापना का राज जाहिर करते हुए कहते हैं। इसका विचार उन्हें आयुर्वेद का थोड़ा ज्ञान होने के चलते आया। सेक्टर में बहुत गंदगी थी।  खाली प्लाटों में कूड़ा डाला जाता था। इसे सेक्टर का वातावरण बेहद प्रदूषित था। पहले तो उन्होंने मजदूर बुलाकर एक एकड़ के प्लाट को ठीक करवाया। फिर नंदनवन के नाम से एक पार्क रजिस्र्टड कराकर फरीदाबाद की सभी नर्सरी, यहां तक कि ऋषिकेश से पौधे लेकर यहां पर लगाने शुरु किए। घीरे-घीरे प्लांटेशन होता गया। इसकी देख-भाल को माली रखा। तीन वषार्ंे की मेहनत के बाद आज हर्बल पार्क तैयार है।  पार्क में सेक्टर के लोग घूमने आते हैं।  यहां पर 82 किस्मों के हर्बल पौधे लगे हैं। पार्क में रोज सुबह फ्री योगा क्लॉस भी लगती है। पार्क में मोबाइल चार्ज व पीने की पानी की भी व्यवस्था है। घरेलू नौकरों के बच्चाों को एजुकेशन दिलाने के लिए वे प्रयास नामक संस्था भी चलाते हैं। पार्क में यदा-कदा होमोपैथी व एलौपैथी फ्री मेडिकल कैम्प भी लगाया जाता है।
------------
पार्क में मौजूद हर्बल पौधे
आम, आंवला, अपामार्ग, अजरुन, अश्वगंधा, अशोक, बरगद, बेल,चमेली,गूलर , गुडहल, घृतकुमारी, हल्दी, जामुन, कनेर, मरुआ, मेहंदी, नीम,पलाश, पीपल, शंखपुष्पी, सहिजन, शीशराम, तुलसी, पत्थरचट, अडूसा, स्टीविया, मधुवरी, पैप्रामैंट, सिम्बल, हार श्रृंगार, एलोवेरा, केला आदि

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कैप्टन ने कूड़े पर उगा दिए फूल