DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन हजार करोड़ की काली कमाई का पता चला

राजनेताओं ने झारखंड को तबियत से लूटा है। प्रवर्तन निदेशालय ने कोड़ा एंड कंपनी की करीब तीन हजार करोड़ रुपए की काली का पता लगाया है। प्रारंभिक छानबीन में कई चौंकानेवाले तथ्य उजागर हुए हैं। कोड़ा, उनकी कैबिनेट में रहे एनोस एक्का और हरिनारायण राय समेत कई दूसरे नेताओं ने स्विट्जरलैंड की बजाय लाओस को काली कमाई के निवेश का सुरक्षित ठिकाना माना।

इन लोगों ने लाओस में तीन हजार करोड़ रुपए का निवेश किया है। गौरतलब है कि हाल ही में पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा, पूर्व मंत्री बंधु तिर्की, भानु प्रताप शाही व कमलेश सिंह सहित नौ लोगों के खिलाफ निदेशालय ने प्राथमिकी दर्ज कराई है। मामले की छानबीन करनेवाले अधिकारी के मुताबिक झारखंड के नेताओं के घर से बरामद दस्तावेजों और पूछताछ से अब तक करीब तीन हजार करोड़ रुपए के काले धन का पता चला है।

यह पैसा सऊदी अरब से लाओस पहुंचाया गया। इसके लिए कोड़ा व अन्य मंत्रियों के साथियों ने सऊदी अरब और लाओस में अलग-अलग नाम से कंपनियां खोल रखी हैं। कोड़ा के मुख्यमंत्री रहते जमशेदपुर के संजय चौधरी ने सऊदी अरब में आयात-निर्यात का धंधा करने की जानकारी दी थी। जांच अधिकारी के मुताबिक विदेशों के अलावा देश के अंदर भी इन लोगों ने अलग-अलग नाम से कई कंपनियां खोल रखी हैं।
आय का स्नोत नहीं पूछा जाता

निदेशालय के सूत्रों के मुताबिक वर्मा-चीन और थाईलैंड की सीमा से लगे छोटे से देश लाओस में पर्यटन, खनन और पनबिजली उत्पादन के क्षेत्र में कार्यरत कंपनियों को कर में छूट मिलती है। साथ ही कंपनियों के प्रमोटरों से धन का स्नोत भी नहीं पूछा जाता। इसलिए इन नेताओं को यहां काले धन का निवेश करना सुरक्षित लगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तीन हजार करोड़ की काली कमाई का पता चला