DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घाघरा में उफान तेज, तटवर्ती इलाकों में दहशत

नेपाल में हुई भारी बारिश के कारण लगातार पानी छोड़े जाने से रविवार को घाघरा नदी में उफान लाल निशान से एक फुट ऊपर पहुंच गया। इससे तटवर्ती इलाकों की फसलें डूब गयी हैं और तेजी से कटान के चलते लोगों में दहशत व्याप्त है। दोहरीघाट कस्बा स्थित मुक्तिधाम और राम-जानकी घाट की सीढ़ियां डूब गयीं हैं। सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता पीएन सिंह का कहना है कि अयोध्या में उफान थमने के संकेत मिले हैं, इसका असर यहां भी सोमवार की शाम से दिखने लगेगा।

दोहरीघाट संवाद सूत्र के अनुसार शनिवार को घाघरा ने खतरा बिन्दु 69.90 मीटर को पार कर लिया। रविवार को उफान और तेज हो गया और गौरीशंकर घाट पर जलस्तर 70.20 मीटर पहुंच गया। इससे मुक्तिधाम की सीढ़ियां डूब गयी हैं। भारत माता मंदिर समेत कई ऐतिहासिक धरोहर जद में आ गये हैं।

नगर में एक बार फिर पानी घुसने का दबाव बढ़ रहा है। इससे लोगों में दहशत फैल गयी है। चिऊटीडांड़, नई बाजार, सरहरा, नवली, पतनई, ठाकुर गांव समेत डेढ़ दजर्न गांवों पर घाघरा की बांढ़ का असर है। घोसी और मधुबन के एसडीएम हालात पर नजर रखे हुए हैं। राजस्व कर्मी तैनात कर दिये गये हैं।

दुबारी संवादसूत्र के अनुसार घाघरा की विनाशकारी लीला देख देवारा क्षेत्र के वाशिन्दों में फिर पलायन का खौफ समा गया है। बढ़ते जलस्तर से कई गांव पानी से घिरते जा रहे हैं। जहां देवरांचल सितम्बर में दो बार बाढ़ की चपेट में आकर खरीफ की फसल गंवा चुका है, वहीं तीसरी बार इस माह घाघरा का प्रचण्ड रूप लोगों को सकते में डाल रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:घाघरा में उफान तेज, तटवर्ती इलाकों में दहशत