DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों के बहुआयामी व्यक्तित्व का ब्यौरा होगा सीबीएसई प्रमाणपत्र

छात्रों के बहुआयामी व्यक्तित्व का ब्यौरा होगा सीबीएसई प्रमाणपत्र

छात्रों के व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं को महत्व प्रदान करने के उद्देश्य से केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने सतत एवं समग्र मूल्याकंन के तहत 10वीं बोर्ड के छात्रों के प्रमाणपत्र में अकादमिक दक्षता, जीवन कौशल, मूल्यों, आचार व्यवहार, साहित्यिक एवं वैज्ञानिक अभिरूचि, कला, स्वास्थ्य एवं शारीरिक कौशल का समावेश किया है।

सीबीएसई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि छात्रों में परीक्षा के भय और तनाव को दूर करने के प्रयासों के तहत सीबीएसई ने परीक्षा में फेल या पास करने की पुरानी व्यवस्था से इतर अब सतत एवं समग्र मूल्यांकन (सीसीई) का समावेश ग्रेडिंग प्रणाली में करते हुए प्रमाणपत्र का प्रारूप तैयार किया है।

उन्होंने कहा कि सतत एवं समग्र मूल्यांकन पर आधारित यह प्रमाणपत्र छात्रों को 10वीं के बाद दिया जायेगा और इसमें 9वीं एवं 10वीं के पाठयक्रम का समावेश होगा। प्रमाणपत्र के तीन खंड होंगे जिसमें छात्रों के व्यक्तिव के विभिन्न पहलुओं का ब्यौरा होगा।

सीबीएसई के सीसीई के आधार पर तैयार प्रमाणपत्र के प्रारूप की शुरूआत छात्र के बारे में जानकारी से होगी और इसी खंड में छात्र के लक्ष्य, उसके मजबूत पक्ष, रूचियों, पसंद के खेल और निभाई गई जिम्मेदारियों का जिक्र होगा।

प्रमाणपत्र का एक खंड अकादमिक प्रदर्शन को समर्पित होगा जिसमें विभिन्न विषयों में नौवीं एवं दसवीं कक्षा में फार्मेटिव एवं समेटिव परीक्षा में प्रदर्शन, ग्रेड एवं पर्सेंटाइल का ब्यौरा होगा। इसी खंड के दूसरे हिस्से में दोनों कक्षाओं में कार्य निष्पादन, कला शिक्षा, शरीरिक एवं स्वास्थ्य शिक्षा एवं कक्षा में उपस्थिति का विवरण होगा।

अधिकारी ने कहा कि इन सभी खंडों में प्रदर्शन को पर्सेटाइल में बदल कर ग्रेड प्रदान किये जायेंगे।

सीसीई के तहत सीबीएसई के प्रमाणपत्र में दूसरे खंड में सह शैक्षिक एवं जीवन कौशल से जुड़े विषयों के मूल्यांकन का ब्यौरा पेश होगा। इसमें छात्र की सोचने समझने के कौशल, सामाजिक गुण एवं भावनात्मक गुणों का ब्यौरा दिया जायेगा।

सोचने समझने के कौशल के तहत छात्र की रचनात्मक एवं समालोचनात्मक समक्ष, समस्याओं को सुलझाने के कौशल एवं निर्णय करने की क्षमता का मूल्यांकन होगा जबकि सामाजिक गुणों के तहत आपसी संवाद के प्रवीणता के अलावा भावनात्मक गुणों के तहत तनाव एवं भावनात्मक विषयों से जुझने की क्षमता का ब्यौरा होगा।

इस खंड के दूसरे हिस्से में छात्र के मूल्य एवं आचार व्यवहार का ब्यौरा होगा। इसमें शिक्षकों, दोस्तों, पर्यावरण एवं नैतिक मूल्यों के प्रति उक्त छात्र के व्यवहार का ब्यौरा होगा।

प्रमाणपत्र के तीसरे खंड के प्रथम हिस्से में साहित्यिक एवं रचनात्मक दक्षता के बलावा वैज्ञानिक दक्षता एवं सौंदर्यबोध का ब्यौरा होगा। साहित्यिक एवं रचनात्मक दक्षता के तहत वाद विवाद, रचनात्मक लेखन, रेखांकन, पोस्टर बनाने एवं नारा लिखने की कला, आन स्पाट पेंटिंग की परख होगी जबकि वैज्ञानिक दक्षता के तहत विज्ञान एवं गणित पर प्रोजेक्ट वर्क, विज्ञान क्विज, विज्ञान प्रदर्शनी एवं ओलंपियाड जैसे विषय के अलावा सौंदर्यबोध के तहत संगीत, नत्य, नाटक, हस्तशिल्प, लोककला जैसे विषयों की परख होगी।

इस खंड के दूसरे हिस्से में छात्र के स्वास्थ्य एवं शारीरिक क्षमता का ब्यौरा होगा जिसमें आठ विषय होंगे। इसके तहत देसी खेल, एनसीसी या एनएसएस, स्काउट एवं गाइड, तैराकी, जिमनास्टिक, योग, प्राथमिक उपचार जैसे विषय होंगे जिसमें के दो विषयों में छात्र को परख जायेगा। इसी खंड में छात्र के स्वास्थ्य संबंधी स्थिति का ब्यौरा होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छात्रों के बहुआयामी व्यक्तित्व का ब्यौरा होगा सीबीएसई प्रमाणपत्र