DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेपाल बना गया है लूटे गए ट्रकों की मंडी

अब तक तो राजधानी से कारें चोरी होने के बाद नेपाल में बेची जा रही थी, लेकिन अब लूटे गए ट्रक भी नेपाल में बेचे जा रहे हैं। नेपाल तक पहुंचाने के लिए लुटेरों ने कानपुर को अपना ट्रांजिट बनाया हुआ है। यहां वे लूटे गए ट्रक के फर्जी दस्तावेज तैयार कराने के बाद उसे आगे पहुंचाते हैं। इसका खुलासा अपराध शाखा की टीम ने इंटरस्टेट गैंग के नौ सदस्यों को पकड़ने के बाद किया है।

गिरोह का सरगना गुलजार खान है। वह जेल से दो माह पहले ही छूट कर आया था। उसके अन्य साथी भूरा, मोहम्मद आरिफ, मोहम्मद साजिद, मोहम्मद अली, मोहम्मद कामिल सिद्दीकी, प्रदीप गुप्ता तथा मुकेश गुप्ता हैं। इनके पास से तमंचे, कारतूस, चाकू तथा अन्य सामान बरामद किया गया है।

अपराध शाखा के एसीपी उदयवीर सिंह राठी की टीम ने एक सूचना पर ओखला इलाके से गिरोह को गिरफ्तार किया। अभियुक्तों से पूछताछ करने पर पता चला कि गुलजार खान व उसके साथी ट्रक चालक को निशाना बनाते थे। ट्रक लूटने के बाद चालक व क्लीनर की हत्या कर शव को नदी या नहर में फेंक देते थे।

राजधानी से ट्रक ले जाकर कानपुर में मुकेश गुप्ता व प्रदीप गुप्ता को दो लाख रुपये में बेचते थे। कानुपर से ट्रक के फर्जी दस्तावेज तैयार कराने के बाद उसे नेपाल, पश्चिम बंगाल तथा बिहार में बेचते थे। इस गिरोह ने दिल्ली के अलावा अलवर, मेरठ, मुज्जफरनगर तथा अमरोहा से भी ट्रक लूटे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नेपाल बना गया है लूटे गए ट्रकों की मंडी