DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विश्व प्राकृतिक आपदा दिवस रविवार को

रविवार को विश्व प्राकृतिक आपदा दिवस है, लेकिन विशेषज्ञ इसे केवल आपदा ही मानते हैं क्योंकि इन प्राकृतिक आपदाओं को उत्पन्न करने में मनुष्य का भी बड़ा हाथ है। नोएडा शहर भी इन प्राकृतिक आपदाओं की चपेट में कभी भी आ सकता है। वर्ष 2007 में आये हल्के भूकंप के झटकों ने लोगों के मन में दहशत पैदा कर दी थी।

आपदा का कारण भूकंप, बाढ़, आग आदि हैं, क्योंकि भूकंप पैमाने पर नोएडा दूसरे स्थान पर आता है अतः इसके साथ जुड़े शहर में भूकंप आने की सबसे ज्यादा आशंका बनी रहती है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजास्टर मैंनेजमेंट के प्रोफेसर अनिल गुप्ता ने बताया कि नोएडा में अट्टा व निठारी गांव में आपदा होने का खतरा सबसे अधिक है क्योंकि यहां अगर आगजनी की घटना हो जाती है तो इनकी संकरी गलियों में भगदड़ व दम घुटने से अधिक संख्या में लोग मर सकते हैं।

प्रोफेसर जुगल किशोर का मानना है कि शहर में हजारों की संख्या में आईटी व अन्य प्रकार की कैमिकल इंडस्ट्रीज के होने से भी इन आपदाओं का खतरा बना रहता है। इनमें कैमिकल व हेवी मेटल एक्सप्लोजन व दूषित गैसों से पर्यावरण के साथ ही लोगों की जान का डर बना हुआ है और भोपाल गैस ट्रैजिडी इन सबका अच्छा उदाहरण है। विशेषज्ञों का मानना है कि इन आपदाओं के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए विशेषज्ञ, प्रशासन व जनता तीनों को जोड़ देने पर भविष्य में आने वाली आपदाओं से लोगों को मानसिक रूप से तैयार किया जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विश्व प्राकृतिक आपदा दिवस रविवार को