DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एएनएम और पंचायत प्रतिनिधि मिलकर चलायेंगे अस्पताल

ग्रामीण अस्पतालों में सरकारी राशि एएनएम और पंचायत प्रतिनिधि मिलकर खर्च करेंगे। दोनों के संयुक्त हस्ताक्षर से राशि खर्च होगी। दोनों का ज्वायंट बैंक अकाउन्ट होगा। सरकार ने हेल्थ सब सेण्टरों के अनटायड फंड (अस्पताल की सुविधाओं पर खर्च होने वाली राशि) के खर्च के लिए इन्हीं को जिम्मेवार बनाया है। ग्रामीण स्वास्थ्य सुविधाओं की राशि खर्च नहीं होने के संकट से परेशान राज्य सरकार ने अनटायड फंड को अब शत प्रतिशत खर्च करवाने का प्रबंध किया है।

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव सीके मिश्र ने नोडल पदाधिकारियों को स्वास्थ्य कार्यक्रमों के अनुश्रवण और पर्यवेक्षण के लिए 6 सूत्री निर्देश दिये हैं। उन्हें औचक निरीक्षण कर एनआरएचएम के तहत मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य, टीकाकरण और कई अन्य रोगों के नियंत्रण कार्यक्रमों के लिए में दी जाने वाली राशि के खर्च की गहन समीक्षा करने की जिम्मेवारी दी गई है।

श्री मिश्र ने कहा है कि समस्याओं का स्थल पर ही समाधान किया जाए। खर्च नहीं करने वाले पदाधिकारियों एवं कर्मियों को चिन्हित कर उनकी सूची मुख्यालय को तुरंत उपलब्ध करायी जाए। हर पंचायत में ग्रामीण एवं स्वच्छता समिति का गठन किया जाए और पंचायती राज विभाग के दिशा-निर्देशों के तहत बैंक में खाता खुला है या नहीं यह सुनिश्चित किया जाए।

स्वास्थ्य केन्द्रों पर नियुक्त सभी आशा को मानदेय मिल रहा है कि यह सुनिश्चित किया जाए। अस्पतालों में दवाएं नहीं होने पर यह जांच हो किस स्तर की कमी से मरीजों को परेशानी हो रही है। आपूर्तिकर्ता ने दवा नहीं दी या जिला स्वास्थ्य प्रशासन की लापरवाही से यह संकट है, इसकी रिपोर्ट मुख्यालय को दी जाए। हेल्ध सब सेन्टरों की वास्तविक स्थिति और निर्माणाधीन केन्द्रों की अद्यतन जमीनी हकीकत से मुख्यालय को रूबरू कराया जाए। ये नोडल पदाधिकारी सरकार को हर माह समेकित रिपोर्ट देंगे जिसके अनुसार आगे की कार्रवाई होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एएनएम और पंचायत प्रतिनिधि मिलकर चलायेंगे अस्पताल