DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बंद इकाइयां चालू होने से कटौतियों से राहत

गुरुवार को चरमरायी प्रदेश की विद्युत व्यवस्था शुक्रवार को लगभग सामान्य हो गई। अनपरा विद्युतगृह की तमाम बंद मशीनें गुरुवार की देर रात तक चालू कर ली गईं। ओबरा विद्युतगृह की भी दसवीं इकाई को छोड़ शेष सभी इकाइयों से उत्पादन प्रारम्भ हो गया था।

केन्द्रीय व प्रदेश की ठप हुई ट्रान्समिशन लाइनों को भी बहाल किए जाने की जानकारी विद्युत विभाग ने दी है। प्रदेश का तापीय उत्पादन 2100 मेवा के लगभग पहुंचने से गुरुवार को जारी कटौतियों से काफी राहत मिली। हालांकि मशीनें बंद होने से बीते 24 घण्टे में महज 33.4 मिलियन यूनिट ही प्रदेश के तापीय विद्युतगृहों से उत्पादन हो सका, जो आधे से भी कम रहा।

जानकारी के मुताबिक, अनपरा विद्युतगृह की 210 मे.वा. की बंद हुई पहली इकाई गुरुवार 14:15 पर, दूसरी इकाई 16:17 पर व तीसरी इकाई 19:15 पर उत्पादन कर ली गई। 500 मे.वा. की चौथी व पांचवीं 16:58 व 19:12 पर चालू हो जाने से तापीय उत्पादन में खासा सुधार हुआ। ओबरा की 200 मे.वा. की दसवीं इकाई ब्यालयर टय़ूब लीकेज से बंद होने के कारण चालू नहीं की जा सकीं, जबकि 12वीं व 13वीं इकाई गुरुवार को 14:12 व 14:29 पर चालू कर ली गयीं।

अनपरा विद्युतगृह से शुक्रवार की शाम 1500 मे.वा. से अधिक व ओबरा से 345 मे.वा. से अधिक उत्पादन जारी था। इस बीच पारीछा विद्युतगृह की 250 मे.वा. की तीसरी व चौथी इकाईयों से टर्बाइन में रोर्टर जाम होने व तेल रिसाव होने के कारण उत्पादन ठप हो गया। इन इकाईयों से अब लगभग चार-पांच दिनों तक उत्पादन होने की उम्मीद नहीं है। बीएचईएल की विशेष टीम को जांच के लिए भेजा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बंद इकाइयां चालू होने से कटौतियों से राहत