DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुंदेलखंड को कृषि के लिए आठ हजार

लगातार पाँच साल से सूखा ङोल रहे बुंदेलखंड को बहुत जल्द आठ हजार दो सौ करोड़ का पैकेज मिलेगा। यह पैकेज बुंदेलखंड के सातों जनपदों के लिए है। इस बात का खुलासा सूखे का जायजा लेने आए केंद्रीय टीम के लीडर अपर सचिव डा. केडी शर्मा ने किया। डा. शर्मा ने बताया कि इस पैकेज में झांसी में कृषि विश्वविद्यालय खोलने की योजना भी शामिल है। ललितपुर से माताटीला बांध के लिए भी धन पैकेज में शामिल किया गया है।

सूखे का जायजा लेने आई केंद्र सरकार की पाँच सदस्यीय टीम ने चित्रकूट धाम मंडल मुख्यालय में बैठक करने के उपरांत ‘हिन्दुस्तान’ से हुई खास बातचीत में बताया कि बुंदेलखंड वाकई सूखे से प्रभावित है। यहां गरीबी ज्यादा है और जीविका का एक मात्र साधन कृषि है। इसके लिए भारत सरकार ने आठ हजार दो सौ करोड़ रुपये का पैकेज दिया है। इस पैकेज में कृषि विकास से संबंधित तमाम योजनाओं को सम्मलित किया गया है। बुंदेलखंड में कृषि सुधार, जल  प्रबंधन के वैज्ञानिक और भौतिक जानकारी करना जरूरी है।

अपर सचिव डा. केडी शर्मा ने कहा कि बुंदेलखंड कभी डार्क जोन घोषित नहीं हुआ।  जालौन, बांदा और हमीरपुर में गहरे नलकूप बनाए जाते हैं जबकि यहाँ कुओं से काम चल सकता है। नलकूपों के मुकाबले कुओं के माध्यम से जलदोहन भी कम होता है। टीम लीडर अपर सचिव डा. केडी शर्मा ने बताया कि बुंदेलखंड में सूखे की रिपोर्ट वह 12 अक्टूबर को भारत सरकार को सौपेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बुंदेलखंड को कृषि के लिए आठ हजार